# चिंता नहीं ..चिंतन करें #

Talk to yourself once in a day, otherwise
you may miss meeting an intelligent person in this world..

Retiredकलम

आज के दौड़ में हमारे लिए एक सीमा से अधिक तनाव (stress) लेना नुकसानदायक साबित हो सकता है, जिसका असर ना केवल हमारे स्वास्थ पर पड़ता है बल्कि हमारे सगे – सम्बंधियों पर भी पड़ता है |

पर राहत की बात यह है कि यदि हम थोड़ी सावधानी बरते, तो हम अपने स्ट्रेस (stress) को एक सीमा से अधिक बढ़ने और इसे नुकसानदेह होने से रोक सकते है |

किसी ने सही कहा है कि चिंता करने से स्ट्रेस ( stress) बढ़ता है और चिंता करने की कोई सीमा नहीं है | लेकिन इसके विपरीत अगर हम चिंतन करें तो अपने स्ट्रेस ( stress) के कारणों का निदान कर अपने स्ट्रेस (stress) को ख़तम कर सकते है ..या नहीं तो बहुत हद तक हम इसे नियंत्रित कर सकते है …

यह कथन सही है कि हर समस्या का समाधान संभव है बशर्ते कि हम उस समस्या को पहले सही ढंग…

View original post 768 more words



Categories: motivational

4 replies

  1. So true.time with self is important

    Liked by 1 person

  2. Very true Sir, nice share 👍

    Talk to yourself once in a day, otherwise
    you may miss meeting an intelligent person in this world..

    Liked by 1 person

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: