# उम्मीद पर टिकी ज़िन्दगी #

छोड़ दो हाथों की लकीरों पर भरोसा करना ,
जब जान से प्यारे लोग बदल सकते हैं तो
किस्मत क्या चीज़ है |

Retiredकलम

उम्मीद भी बड़ी कमाल की चीज़ है…लोग कहते है ना कि उम्मीद पे ही दुनिया कायम है..वर्ना हम कोरोना काल के ” लॉक डाउन ” को सिर्फ इस उम्मीद से झेल रहे है कि आगे सब ठीक हो जायेगा |

यह तो सच ही है कि उम्मीद पर ही हमारी ज़िन्दगी टिकी है, जिस दिन उम्मीद समाप्त,.. समझो ज़िन्दगी समाप्त |

आज मुझे इसी बात पर एक वाक्या याद आ गया | उसे याद कर मैं आज फिर भावुक हो गया , इसलिए मैं आज उन बीते लम्हों को कलमबद्ध कर रहा हूँ |

हालाँकि बात बहुत पुरानी है , या यूँ कहें कि उन दिनों की  है जब मेरी बैंक की पहली पोस्टिंग शिवगंज शाखा , राजस्थान  में थी | नई – नई नौकरी होने के कारण हमारे अंदर एक जोश और  कार्य करने का जज्बा था |

मेरा मुख्य काम गाँव के किसानो को  ऋण मुहैया कराना और…

View original post 626 more words



Categories: Uncategorized

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: