# घर का सुख #

सिक्षा और संस्कार ज़िन्दगी जीने के मूल मंत्र हैं ,
शिक्षा कभी झुकने नहीं देगी ,और संस्कार कभी गिरने नहीं देंगे |

Retiredकलम

आज हमारे एक मित्र ने फ़ोन करके बताया कि कोरोना में लॉक डाउन के कारण मैं डिप्रेस्ड (Depression ) महसूस कर रहा हूँ , कोई उपाय बताओ ताकि तुम्हारी तरह मैं भी मस्त हो जाऊँ |

मुझे उसकी बात सुनकर हँसी आ गई | मैं बस इतना ही कहा .– .जान है तो जहाँ है | अपने मन को थोडा समझाओ | …

तभी अचानक एक मशहूर कहानी याद आ गई ..मैंने उससे बोला. — कल का  मेरा blog पढ़ लेना , तुम्हारे सभी सवालों के जवाब मिल जायेगा | वो कहानी कुछ इस तरह है आप भी सुनें .शायद  इस  लॉक डाउन में  थोड़ी  राहत मिल सके | 

महान लेखक टालस्टाय की एक कहानी है *- “शर्त “*

इस कहानी में दो मित्रो में आपस मे शर्त लगती है कि, यदि उसने 1 माह एकांत में बिना किसी से मिले, बातचीत किये एक कमरे में बिता देता है, तो…

View original post 841 more words



Categories: Uncategorized

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: