# मुर्ख कौन ? #

कोई न मिले तो किस्मत से गिला नहीं नहीं करते,
अक्सर लोग मिल कर भी मिला नहीं करते है …

Retiredकलम

दोस्तों,

आज कल हम बिहार दिवस पखवारा मना रहे है | हमारे मन में विचार आया कि आज एक लोक कथा की चर्चा की जाए |

मुझे अपनी बचपन की याद आ रही है जब ऐसी लोक कथाएं मेरी माँ मुझे बचपन में सुनाती थी.. जिसे सुनकर ही हमें नींद आती थी | ऐसी ही एक कहानी है… जिसका शीर्षक है …. मुर्ख कौन ?

एक गांव में एक सेठ रहता था | उसका एक ही बेटा था, जो व्यापार के काम से परदेस गया हुआ था |

एक दिन की बात है कि उस सेठ की बहू कुएँ पर पानी भरने गई | पानी भरने के क्रम में उसके घड़ा से पानी छलक कर उसके बदन को भिगों दिया |

बहु ने किसी तरह दुबारा अपने घड़े को भरा | घड़े को उसने उठाकर कुएँ के मुंडेर पर रख दिया और अपना हाथ-मुँह धोने लगी |

तभी उधर से…

View original post 1,651 more words



Categories: Uncategorized

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: