# मेरी आवाज़ सुनो #

अब ये ना पूछना कि ये अल्फाज़ कहाँ से लाता हूँ ,
कुछ चुराता हूँ दर्द दूसरों का , कुछ अपना हाल सुनाता हूँ ..
बातों का सिलसिला यूँ ही बढाता हूँ ,
कुछ मेरी और कुछ तेरी बात बताता हूँ …

Retiredकलम

मैं दशरथ हूँ | मेरा एक भरा पूरा परिवार है | मेरे चार बेटे है | राम, लक्ष्मण भारत और शत्रुघ्न |

मैं एक कंपनी में नौकरी करता था और अब रिटायर हो कर घर परिवार के साथ जीवन व्यतीत कर रहा हूँ | चूँकि भरा पूरा परिवार था मेरा और आमदनी सिमित थी, अतः शुरू से ही पैसों की तंगी झेलनी पड़ी |

लेकिन तमाम विपरीत परिस्थितियों के वाबजूद भी मैं ने कोई गलत रास्ते नहीं चुने और इमानदारी के साथ कमाए गए पैसो से परिवार का भरण पोषण करता रहा |

मैंने बच्चो को अच्छी सिक्षा  और ऊँचे संस्कार दिए | फिजूल खर्ची तो शुरू से ही पसंद नहीं थी | अतः जीवन की  गाड़ी कभी पटरी से उतरी ही नहीं | आज धन सम्पति और बैंक बैलेंस भले ना हो, पर  संतुष्ट ज़िन्दगी बिता रहा हूँ और रात  को चैन से सोता हूँ |

मेरे सारे बच्चें…

View original post 814 more words



Categories: Uncategorized

10 replies

  1. Sometimes, it’s good to just be in the world of imaginations.

    Liked by 1 person

  2. दिल से दिल तक वाली पोस्ट है💕🤗

    Liked by 2 people

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: