# साथी हाथ बढ़ाना #

Happiness does not obey a law of Mathematics.
When u start Dividing happiness among others,
it actually Multiplies…

Retiredकलम

रमेश अपने पेंशन का पैसा बैंक से निकाल कर घर की तरफ चल पड़ा | गर्मी बहुत थी सो वह रास्ते के किनारे पेड़ की छाँव में एक चबूतरे पर बैठ गया |

अचानक उसकी नज़र उस पेड़ से लटक रही एक कागज़ के टुकड़े पर पड़ी, जिस पर कुछ लिखा था. | .

वो अपने चश्मे को ठीक करता , उस कागज़ पर लिखे मेसेज को पढने लगा, | उस पर्चे पर लिखा था — .मैं एक बुजुर्ग महिला हूँ, शरीर से लाचार और मेरी नज़रे भी कमजोर है |

यहीं पेड़ के आस पास मेरा पचास का नोट खो गया है, जिसे मैं नहीं ढूंढ सकी | अगर किसी को मिले तो कृपया इस दिए हुए पते पर पहुँचाने की कृपा करें |

रमेश के चेहरे पर एक मुस्कान बिखर गई | वह वहाँ से उठा और उस पते ( address) को खोज कर वहाँ पहुँचा, तो देखता…

View original post 713 more words



Categories: Uncategorized

5 replies

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: