# इंसानियत जिंदा है #

No poison can kill a positive thinker, and
no medicine can save a negative thinker…

Retiredकलम

आज सुबह मैं फेसबुक देख रहा था तो एक पोस्ट पर मेरी नज़र रुक गई | यह पोस्ट मेरे फेसबुक दोस्त अनिल जी ने भेजा था |

मैं उस पोस्ट को बार बार पढ़ा,   मुझे अपने आँखों पर विश्वास ही नहीं हो रहा था |

मैं उसे पढ़ कर इतना प्रभावित हुआ कि उसे अपने ब्लॉग में लिखने से अपने को रोक नहीं सका .. हाँ, यह सच है दोस्तों कि इंसानियत जिंदा है |

मैं किस्से कहानियों में पढ़ा करता था कि लोग दूसरों के लिए अपने जीवन का बलिदान किया करते थे, लेकिन वह कहानियाँ हुआ करते थे |

मैं फिल्मो में देखा करता था कि हीरो दूसरों की जान बचाने के लिए खुद का बलिदान दे देता था | उस दृश्य को देख कर हमारे आँखों में आँसू आ जाते थे और सिनेमा हॉल में तालियाँ बजती थी |

मैंने यह भी देखा है कि अपने…

View original post 541 more words



Categories: Uncategorized

5 replies

  1. Inspiring piece👌👌💐

    Liked by 1 person

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: