# नोंक-झोंक #

We cannot hold destiny & time,
we cannot hold Heart Beat & Life,
But, we can hold one thing & that is
Good Relations….So Hold it forever…

Retiredकलम


.
मैं ने यह कहानी पढ़ा तो दिल को छू गया। मैँ ने महसूस किया कि इसे कहानी क्यों कहा जाए, यह हकीकत क्यों नही हो सकता..|

हम समझते है कि बुढापा एक अभिशाप है, अगर ऐसी बुढापा हो तो ज़िन्दगी आनंद का दूसरा नाम बन सकता है.. आप अंत तक पढ़े और फिर अपने विचार भी लिखें…..

इन 60 – 65 साल के अंकल और आंटी का झगड़ा ही ख़त्म नहीं होता |…

एक बार के लिए मैंने सोचा अंकल और आंटी से बात करूं और पूछूँ –क्यों लड़ते हैं हर वक़्त, आख़िर बात क्या है ?…
.
फिर सोचा मुझे क्या, मैं तो यहाँ मात्र दो दिन के लिए ही तो आया हूँ |…

मगर थोड़ी देर बाद आंटी की जोर-जोर से बड़बड़ाने की आवाज़ें आयीं तो मुझसे रहा नहीं गया…

ग्राउंड फ्लोर पर गया मैं, तो देखा अंकल हाथ में वाइपर और पोंछा लिए खड़े थे |…

View original post 661 more words



Categories: Uncategorized

2 replies

  1. अति सुन्दर रचना।👌👌💐

    Liked by 1 person

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: