# अध्यात्म और बुढापा #

HEART is not a basket for keeping tension and sadness.
IT is a golden box for keeping roses of happiness and
SWEET MEMORIES..

Retiredकलम

source:Google.com

वैसे तो अध्यात्म (Spirituality) को परिभाषित करना आसान नहीं है –.अलग अलग लोग अपनी तरह से इसे समझते है | ,कुछ का मानना है कि अध्यात्म एक दर्शन है |

किसी ने कहा है spirituality बुढ़ापे की चीज़ है | लेकिन बुढापा कहते किसको है ..बुढापा की  परिभाषा तो कोई बताएं ? ..

क्या मुँह में दांत ना हो और पेट में आंत ना हो, तो बुढापा आ जाता है ? ,

या सिर पर बाल ना (bald)  हो, या चलने – फिरने में असमर्थ हो जाए.?  

नहीं, बुढापा, तब भी नहीं  आती है |

साधारण भाषा में जब मौत निकट आ जाती है तो हम मानते है की बुढापा आ गई है | लेकिन क्या मौत की कोई  गारंटी ले सकता है कि वो बुढ़ापे में ही आएगी ?

 बिलकुल नहीं, मौत तो कभी भी आ सकती है |

या फिर जब हमारी सारी इच्छाएं समाप्त हो…

View original post 832 more words



Categories: Uncategorized

2 replies

  1. Every word is worth reading

    Liked by 1 person

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: