# मुझको यारों माफ़ करना #. ..20

Being honest may not get you a lot of friends
but it will always get you the right ones…

Retiredकलम

आधी रात को अचानक मेरी आँखे खुल गई लेकिन अभी भी नशा पूरी तरह उतर नहीं सका था / घड़ी देखा तो रात के दो बजे थे और मैं बिस्तर में उठ बैठा /  

मेरी नींद गायब हो चुकी थी / मेरी नज़र सामने पड़ी खाली कुर्सी पर गई और पिछली घटना  याद आ गई, /

उस दिन पिंकी इसी कुर्सी पर बैठ कर मेरे लिए रात बिता दी थी, क्योकि उस दिन भी इसी तरह पीने के बाद मुझे होश नहीं था / और फिर रात में जब उठा था तो मैं उसे कितना भला बुरा कहा था / फिर भी मेरी बातों का बुरा ना मानते हुए, मुझसे पूछी थी…अब तबियत कैसी है ?

 आज मुझे एहसास हो रहा था की ऐसी स्थिति में किसी के सहारे की कितनी ज़रुरत होती  है /  उस रात सांसारिक लोक – लाज, डर- भय को परे रख कर उसने सिर्फ…

View original post 1,094 more words



Categories: Uncategorized

6 replies

  1. First two lines are perfect, precious, pragmatic, proven with time

    Liked by 1 person

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: