# क्या यह प्यार है #…15

ज़िन्दगी में एक दुसरे के जैसा होना ज़रूरी नहीं होता ,
बल्कि .. एक दुसरे के लिए होना ज़रूरी होता है |

Retiredकलम

source:Google.com

आज रविवार होने के कारण,  मैं बहुत relax महसूस कर रहा था | और जब से मनका छोरी दिन का  खाना खिला कर गई थी तब से ही सो रहा था |

अभी शाम के पांच बजे रहे थे और मेरी नींद खुल गई | अब तो रात के दारु का हैंगओवर भी दूर हो गया था |

मन बिलकुल तरो – ताजा और खुश लग रहा था |

अचानक मेरी नज़र दीवार पर टंगी हुई पतंग पर गई और मेरा बचपना जाग गया | मैं पतंग लेकर छत पर चला आया  |

छत पर सभी बच्चे लोग खेल रहे थे | मैं भी बच्चो के साथ पतंग उड़ाने  की कोशिश करने लगा |

तभी गुड्डी पतग उड़ाने  की जिद करने लगी | मैंने हवा में कलाबाज़ी खाते पतंग की डोर छोटी बच्ची को दे दिया, |

उसे आकाश में उड़ती पतंग की डोर खिंच कर उडाने में खूब…

View original post 962 more words



Categories: Uncategorized

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: