# मेरी अच्छी दोस्त #

अब मैं ने तय किया है कि आत्मा को स्वच्छ रखना है | हमारे अन्दर जो वर्षों से गन्दगी  जमी हुई है उसे हटाना है, क्योंकि आत्मा में परमात्मा का अंश रहता है ।

कभी – कभी  हम अपनी भावनाओं को कविता के माध्यम से प्रकट करने की कोशिश करते है |

जी हाँ,  हम कभी – कभी  अपने आप को कविता के रूप में भी  प्रकट करते है | 

क्योंकि मेरी कविता मेरी आत्मा है …..जो शब्दों के माध्यम से मुझे  एक नयी उर्जा और पहचान देती है ..

हम इसके माध्यम से शुकून की साँस लेते है , मेरे  कलम की स्याही मेरे दर्दों को कागजो पर बयाँ करते है …

हम  अपने विचारों को कविता के माध्यम से पुनर्जीवित करते है … अपनी सोच के सहारे कविता को उडान हेतु पंख देते है …..

जी हाँ, हम कभी – कभी कविता भी लिखते है…….

मेरी अच्छी दोस्त

मेरी कलम,  मेरी अच्छी दोस्त है  

जो मुझे खुद से रू ब रू कराती है

मेरे मकसद मेरे लक्ष्य याद दिलाती है

हाँ, मेरी कलम,  मेरी अच्छी दोस्त है |  

थक जाता हूँ दिन भर की भाग दौड़ से जब

तब सुकून बन मेरे हाथो में आती है ,

जब व्यक्त करनी होती है अपनी भावनाएं

शब्द बन यह  मेरा साथ निभाती है

सच, मेरी कलम,  मेरी  अच्छी दोस्त है | 

दिल की चोट खा, जब ज़ख़्मी होता हूँ मैं 

तो  शब्दों के मरहम वही तो लगाती है  ..

गैरों के भीड़ में जब अकेला होता हूँ मैं

साथी बन मेरा वही तो साथ निभाती है .|.

हाँ, मेरी कलम,  मेरी अच्छी दोस्त है    

जो  मुझे खुद से रू ब रू कराती है |

( विजय वर्मा )

तुम्हारीं वो यादें ब्लॉग  हेतु नीचे link पर click करे..

https://wp.me/pbyD2R-3bX

BE HAPPY….BE ACTIVE….BE FOCUSED….BE ALIVE…

If you enjoyed this post, please like, follow, share and comments

Please follow the blog on social media …link are on contact us page..

www.retiredkalam.com



Categories: kavita

25 replies

  1. Excellent. Especially the dance of the lady in sporty yellow saree. Fabulous. Kudos. 👏👏👏👏💐

    Liked by 2 people

  2. बेहतर कविता। 👌👌👍💐

    Liked by 1 person

  3. Blessed are those who make friends with their “kalam”. It’s powerful when strikes with words and magical when puts to reality your imaginations.😊😊😊

    Liked by 2 people

  4. Thoughts lie unnoticed in mind till a pen brings them in black and white.

    Liked by 2 people

  5. Pen is mightier than sword. Pen is friend which remains through out our life.Without pen we can’t do.Pen gives recognition whether we are literate or illiterate. You have nicely chosen a strong friend “Pen”

    Liked by 2 people

    • सही है , यह तो हम सब की दोस्त है |
      यही तो सदा वफ़ा निभाती है |
      दिल में दबे हुए गुबार को कागजों पर
      बिखेरने में मदद करती है …
      हां , यह सच्ची दोस्त है ..

      Like

  6. Entenda como “obrigada” ….😉🙏

    Liked by 1 person

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: