# दरवाज़ा बंद है #…9

Relationship is a silent gift of nature…
More older more stronger, more care more respect ,
Less words more understanding…and
Less meeting more feelings…..

Retiredकलम

आज मन बहुत खुश था, ना बैंक के जाने की जल्दी और ना घर की सफाई करने का  झंझट | आज रविवार था और मनका छोरी को आज खाना बनाने के अलावा घर की सफाई और कपड़ो की धुलाई दोनों करनी थी | यह पहले ही तय किया गया था | आज तो बस आराम ही आराम था |

और आज शाम में यहाँ थोड़ी दूर पर एक स्थित नदी है वहाँ पर शर्मा जी के साथ घुमने जाने का भी प्लान था |

पूरी मौज मस्ती करने का इरादा था, ऐसा मैं बिस्तर पर लेटे हुए सोच ही रहा था कि  किसी ने घर का दरवाज़ा खटखटाया |

घडी देखा तो सुबह के ७ बज चुके थे | मैं समझ गया कि  खाना बनाने के लिए मनका छोरी  ही आयी होगी | अलसाये हुए उठा और दरवाज़ा खोला तो वो हँसते हुए अंदर घुसते ही बोली – अभी नींद…

View original post 1,009 more words



Categories: Uncategorized

2 replies

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: