# जब गुस्सा आये #

Relationship is a silent gift of nature…
More older more stronger, More care more respect…
Less words more understanding.. Less meeting more Feelings…

Retiredकलम

शाखों से टूट जाएँ वो पत्तें नहीं है हम

आँधी से कोई कह दे कि औकात में रहे …

वैसे भी लॉक डाउन के लम्बे समय तक चलने के कारण थोडा depression और  थोडा  negativity आना स्वाभाविक है | और तो और अभी, lockdown का चौथा चरण चल रहा है और कब समाप्त होगा,  कुछ कहा नहीं जा सकता है | …

हमने आज फैसला लिया है कि खुद के सोच को बदलूँगा और खुद को भी | और साथ साथ बेहतर ढंग से जीने की कोशिश करूँगा | और अपनी कमजोरियों को दूर करूँगा |

लोग कहते है लोहे को लोहा काटता है,  हीरे को हीरा  काटता है, ज़हर को जहर काट सकता है.. लेकिन गुस्से को गुस्सा नहीं सिर्फ प्यार ही काट सकता है |..

हर तरफ कोरोना का ही भूत दिखाई पड़ता है..

सचमुच हम बहुत डरे हुए है |

इस डर  को समाप्त करना ही होगा, क्योंकि…

View original post 1,010 more words



Categories: Uncategorized

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: