# कलयुग का दशरथ #….6

Relation is not collection of people , But it is
selection of Hearts. We need to put all
efforts to hold them for LIFE TIME…

Retiredकलम

जो माँ -बाप बच्चों को दुनिया में लाते है ,

जो ऊँगली पकड़ उन्हें चलना सिखाते है ,

वही माँ बाप बुढ़ापे में बच्चों को लगते है बोझ,

वे बड़ी वेशर्मी से उन्हें वृद्धाश्रम में छोड़ आते है …

कौशल्या के चारो ओर सभी लोग खड़े थे और सभी के आँखों में आँसू थे …”ख़ुशी के आँसू” | आज डॉ साहब के अथक प्रयास के कारण कौशल्या की याददाश्त वापस आ गई थी |

डॉ साहब ने अपनी आँखों के आँसू पोछते हुए कहा …दशरथ जी, जल्दी से चाय ले कर आइये और अपनी पत्नी कौशल्या जी को अपनी हाथो से पिलाइए |

वैसे तो आप रोज़ उन्हें चाय पिलाते है, लेकिन आज चाय में …एक दुसरे का एहसास होगा,  सचमुच का प्यार होगा |

और हाँ, हमलोग के लिए भी तो चाय बनता ही है…..डॉ साहब हँसते हुए बोले |

बहुत ही खुशनुमा माहौल था | सभी लोग ख़ुश…

View original post 1,021 more words



Categories: Uncategorized

5 replies

  1. This picture is very bright. The background, the colour of the hair, … Nature is only beautiful but peaceful …

    Liked by 2 people

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: