# ओलिंपिक खेल में महिला खिलाड़ी #

दोस्तों

अभी टोक्यो ओलिंपिक खेल प्रतियोगिता चल रहा है और हम भगवान् से दुआ मांग रहे है कि हमारे देश को ज्यादा से ज्यादा पदक मिले |

दुनिया भर के 206  देशों  के 11,238 खिलाड़ी इस महाकुंभ में हिस्सा  ले रहे हैं,  जिसमें भारत के 127 खिलाड़ी हैं |

हम जब खेल प्रतियोगिताओं के समय में, खिलाडियों को देखते है तो हम अपने पुराने दिनों की याद में खो जाते है |

कभी हमलोग भी खेलों में बहुत रूचि रखते थे | मुझे बैडमिंटन, टेबल टेनिस और क्रिकेट खेलना आज भी अच्छा लागता है |

हमने  रोज़ी – रोटी के चक्कर में हमारे अपने जीवन से खेल के महत्व के बारे में सोचना बंद कर दिया है ।

जब  हम पेशेवर  खिलाडी के शरीर को  देखते हैं तो बस देखते ही रह जाते है | हम भी  सुदृढ़ मांसपेशियों वाला स्वस्थ और  अधिक मजबूत शरीर चाहते हैं | लेकिन सिर्फ चाहने से कुछ नहीं होता है |

हमारा शरीर तो थुलथुल हो गया, पेट निकल गए है, | खेल – कुद से दूर रहने के कारण ही हमें मोटापा ने घेर रखा है |   इसके कारण बहुत सारी बिमारियों के शिकार हो गए हैं |

सच तो यह है कि हमने उन खिलाडियों जैसा कभी  परिश्रम और अभ्यास करने की कोशिश ही नहीं की | ज़िन्दगी के इस पडाव में आज मुझे खेल के महत्व के बारे में एहसास  होता है |

हम अपने शारीरिक स्वास्थ्य के लिए खेल के महत्व को समझ  सकते हैं।

वर्तमान परिस्थियों  में, हम शारीरिक व्यायाम, और खेल के महत्व को महसूस कर रहे है , क्योंकि हम बहुत से ऐसे लोगों को देख रहे हैं जो COVID का शिकार होकर  अस्पताल में भर्ती हुए |  जो चूँकि शारीरिक रूप से मजबूत थे अतः इस रोग से लड़ कर बाहर आ गए |

और जिन्होंने  पहले कभी अपने स्वास्थ पर ध्यान नहीं दिया उन्हें इसका खामियाजा भुगतना पड़ा |

 स्वस्थ शरीर का होना किसी भी खेल के लिए मौलिक ज़रुरत है । व्यायाम, खेल और  सौंदर्य में घनिष्ट  सम्बन्ध है |

खेल की विभिन्न प्रतियोगिताएं में एथलीटों द्वारा प्रस्तुत  उदाहरणों और दृष्टिकोणों से हम बहुत कुछ सीख सकते है |

हम  आज एक तात्कालिक, सतही, अस्थिर दुनिया में जी रहे है,  जहाँ लोगों को तत्काल आनंद, स्वार्थ, आत्म-केंद्रितता, अत्यधिक उपभोक्तावाद,  जैसे चीजों के पीछे भाग रहे है |

.. यह स्थिति यहाँ ही नहीं बल्कि सारी दुनिया में मौजूद है |

मनुष्य इसका एक हिस्सा बन कर रह गया है, अपने शारीरिक स्वास्थ पर कम ध्यान देता है |  

खेल – कुद  में भी लालच, अहंकार और कुछ कमियां  है जो आज की वास्तविकता का हिस्सा है।

लेकिन जबकि कुछ दृष्टिकोण खेल के माहौल को बदनाम करते हैं,, लेकिन  फिर भी इनमे से कुछ खेल के मूल्यों को विकसित करने में सक्षम है जो  हमें अनुशासन  और सच्ची लगन से मिहनत करना सिखाती है |

हमारे जीवन में अनुशासन की आवश्यकता होती है |

खेल के अभ्यास में परिस्थिति पर  काबू पाना, हारना और फिर संभल जाना .. अपनी गलतियों को पहचानना और  उसे सुधारना, स्वस्थ और ईमानदार तरीके से प्रतिस्पर्धा करना , समर्पण, प्रतिबद्धता , ये सब हम खेलों से ही सीख पाते है |

ये सभी गुण अच्छे जीवन के लिए आवश्यक है | खेल – कूद हम सभी के जीवन के लिए आवश्यक है !

दोस्तों, हमारे देश की आबादी १२५ करोड़ से अधिक है लेकिन पदक के मामले में हमसे बहुत छोटे छोटे देश हमसे आगे है | इस पर हमें विचार करना चाहिए |

हम आज पदक तालिका में ६५ वें स्थान पर है (सिल्वर -१, ब्रोंज -२)  जबकि चाइना पहला स्थान पर है (गोल्ड –३२, सिल्वर -22 ब्रोंज -16 )  

हमारे समझ से इसमें पिछड़ने का मुख्य कारण है  … खेलों पर ध्यान नहीं देना और समुचित खेल नीति का नहीं होना | खेलों के लिए पर्याप्त बजट का नहीं होना है |

इसके अलावा एक ही खेल  क्रिकेट  पर आवशकता से अधिक ध्यान दिया जाता है जबकि और खेलों से उसकी  तुलना में कम ध्यान दिया जाता है |

इसलिए इसमें हमें सुधार करने की ज़रुरत है |

लेकिन सबसे दिलचस्प बात यह है कि भारत के  महिला खिलाडी,   पुरुषों के मुकाबले ज्यादा प्रभावित कर रही है | अब तक पाए गए तीनो पदक महिलाओं को ही मिला है |

साधारणतया यह देखा जाता है कि  महिलाओ को खेल – कूद में जाने की आजादी नहीं मिलती है, बहुत सारे सामाजिक बंधन होते है | उनकी कम उम्र में शादी कर दी जाती है |

इन विपरीत परिस्थियों के बाबजूद  भारत की बेटियां देश का नाम रौशन कर रही है | ..

वे अपने बलबूते और दृढसंकल्प के कारण  ही सफलता अर्जित कर पा रही है |

आज ज़रुरत है अपने नज़रिए को बदलने की और खेल – कूद में  खास कर बेटियों के खेलों में भाग लेने को  प्रोसाहित करने की |

अगर उन्हें हम  खेल से सम्बंधित सारी सुविधाएँ  बाल्य – काल से ही उपलब्ध कराएँ तो वे विश्व के विभिन्न खेल प्रतियोगिताएं में बहुत सारे पदक देश के लिए जीत सकती है | ..

(All pic source: Google.com)

तेरी कुछ यादें ब्लॉग  हेतु नीचे link पर click करे..

https://wp.me/pbyD2R-3kf

BE HAPPY….BE ACTIVE….BE FOCUSED….BE ALIVE…

If you enjoyed this post, please like, follow, share and comments

Please follow the blog on social media …link are on contact us page..

www.retiredkalam.com

.



Categories: infotainment

4 replies

  1. Your script is very interesting and I would like to read thoroughly. Writing is a skill which attract readers to continue reading. You’re a very good writer. Kudos. 👏👏👏
    Nice blog.✌️🇮🇳

    Liked by 2 people

  2. Very good analysis about the sport in our country. China and India have more population in the world. China got many medals where as we got few.China is ruled by one party where India is a democratic country. Every thing is politics and promoting own people. Proper monitoring is not being done here.Sport activity has given to Milkha Singh to remain fit and live more.

    Liked by 2 people

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: