एक अकेला इस शहर में….6

All fingers are not in the same length,
But when the bend, all stands equal..
Life become easy when we bend and
adjust all situations..

Retiredकलम

ज़रूरी नहीं कि हर समय जुवान पे, भगवान का नाम याद आए, 

वो लम्हा भी भक्ति का ही होता है जब, इंसान -इंसान के काम आए

अजीब रिश्ता है मेरा ऊपर वाले के साथ, जब भी मुसीबत आती है,

ना जाने किस रूप में आता है और हाथ पकड़ कर पार लगा देता है

मैं उसके सामने सर झुकाता हूँ वो सब के सामने मेरा सर उठाता है…


आज पुरे एक सप्ताह हो गए, इस नए घर में आए हुए | सब कुछ ठीक चल रहा था, सिर्फ एक मुसीबत को छोड़ कर | ..

सुबह – सुबह उठ कर नल से पानी भरना पड़ता था, ओर  देरी होने से सरकारी नल बंद | कोई और दूसरा पानी का स्रोत भी नहीं |

कल ही की तो बात थी कि मैं थोडा देरी से सो कर  उठा था | तो  नल का पानी चला गया |
मैं तो…

View original post 1,017 more words



Categories: मेरे संस्मरण

12 replies

  1. This is very true. I just bent my fingers and they were equal. I have never thought of this. Thanks .

    Liked by 1 person

  2. Beautiful lines very beautifully teaching us the philosophy of life 😊😊

    Liked by 1 person

  3. These words are so true.
    The Roman philosopher and Stoic Lucius Annaeus Seneca (ca.4 BC – 65 AD) said:
    “You have to adapt to the circumstances.”

    Liked by 1 person

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: