# देखना मना है #…4

Wealth is not a permanent friend,
but friends are permanent wealth..

Retiredकलम

आज की सुबह अनकही अनजानी सी कहानी कह गई |

मेरी किस्मत न जाने अब कौन सी कहानी लिख गई |

आज की सुबह ने मुझे महसूस कराया कि..

मैं कौन हूँ और क्या हूँ..

मेरे वजूद से मुझे मिलाकर ,

न जाने खुद कहाँ खो गई..||

नए मकान की चाभी पाकर मैं बहुत खुश था , और  मैनेज़र साहेब की मोटर साइकिल पर इठलाते हुए बैठा | मुझे पहली बार महसूस हुआ कि सच्ची ख़ुशी कैसी होती है |

ख़ुशी ऐसी जैसे कि फाँसी के दिन किसी कैदी को अचानक आज़ादी मिल गयी हो | मैं ब्रांच की ओर रवाना होते हुए रास्ते भर मेनेजर साहेब को धन्यवाद करता रहा |

रास्ते में एक चाय की दूकान दिखी तो मैं साहेब से चाय के लिए निवेदन करने लगा | वो गाड़ी चलाते हुए ही बोले ..इतनी छोटी पार्टी से काम नहीं चलने वाला है |

मैंने तुरंत उनको आश्वस्त…

View original post 955 more words



Categories: मेरे संस्मरण

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: