# मेरी पहली विदेश यात्रा #…4

अच्छा सोचिये, अच्छा बोलिए और अच्छा कीजिये …
क्योंकि सब कुछ आपके पास वापस लौट कर आता है …

Retiredकलम

source: Google.com

तीसरा दिन

चार दिनों के टूर पैकेज का दो दिन तो फुल मौज मस्ती में निकल गया | सचमुच हमलोग खूब मस्ती कर रहे थे |

दिन भर के थका देने वाले कार्यक्रम के बाद तीसरे दिन सुबह देर तक सो रहा था, तभी दरवाज़े पर किसी ने दस्तक दी |

मैं अलसाए हुए बिस्तर से उठा और दरवाज़ा खोला तो सामने मेरे एक मित्र थे | मुझे देखते ही कहा ….अभी तक आपलोग सो रहे हो ? हमलोगों की टूरिस्ट बस आ चुकी है |

आप लोग ज़ल्दी से तैयार होकर नास्ता हेतु रेस्टोरेंट में आ जाओ ताकि समय पर हमलोग घुमने निकल सकें |

उसके जाने के बाद हमलोग ज़ल्दी ज़ल्दी स्नान वगैरह …करके निवृत हुए |

मैं कपडे पहन ही रहा था कि मेरे रूम पार्टनर ने बताया कि हमारी आज का टूरिस्ट प्रोग्राम यहाँ के प्रसिद्ध “बौद्ध – मंदिर” देखने का है |

हमने…

View original post 1,363 more words



Categories: Tour & Travel

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: