# रिक्शावाला की अजीब कहानी # ..10

इच्छा पूरी नहीं होती तो क्रोध बढ़ता है , और इच्छा पूरी होती है तो लोभ,
इसलिए जीवन की हर स्थिति में धैर्य बनाए रखना ही श्रेश्ठता है …

Retiredकलम

आज सुबह सुबह रघु काका ने आवाज़ लगाई….क्या राजू, अभी तक सो रहे हो | पता है, दिन चढ़ आये है | मैंने आँखे खोली और कहा … पता है काका, लेकिन ज़ल्दी उठ कर भी क्या करना है |

लॉक डाउन के कारण कोई काम – धंधा तो है नहीं | घर में बैठ कर सिर्फ रोटियां ही तोड़नी है | वह भी पता नहीं और कितने दिन घर का राशन पानी चल पायेगा | यही हाल रहा तो उपवास करने के दिन आ जायेंगे |

तुम ठीक कहते हो राजू…..अंजिला, जब से गई है, हमलोग के बुरे दिन शुरू हो गए है | वो हमलोगों के लिए तो साक्षात् लक्ष्मी थी | पता नहीं वह बेचारी वहाँ कैसी होगी |

अंजिला का ज़िक्र होते ही मेरे दिमाग में जैसे हलचल शुरू हो गई | मैं बिस्तर पर लेटा अपनी आँखे बंद  किये अतीत में खो गया …सच, .हम…

View original post 1,659 more words



Categories: story

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: