# ज़िन्दगी की किताब #

मेरी पहचान क्या है ?

मैं बिहारी हूँ , मेरा जनम बिहार में हुआ है या मैं एक पति हूँ, एक बाप हूँ, एक हिन्दू हूँ या फिर रिटायर्ड बैंकर हूँ ‘’’

नहीं, मेरी यह पहचान नहीं है शायद | मैं अपनी पहचान बनाना चाहता हूँ |

मेरी अपनी पहचान होगी… मेरी सोच से , मेरे ख्वाबों और मेरे ख्यालों से |

मेरी कोशिश जारी हैं …मैं रोज़ अपने आप से बातें करता हूँ.. क्योंकि मुझे लगता है कि  मैं खुद के बारे में ज्यादा वाकिफ नहीं हूँ ,,,

इसलिए कुछ लिखने के बहाने अपनी पहचान खोज रहा हूँ |

ज़िन्दगी की किताब

आज मैं अपने ज़िन्दगी की किताब खोले बैठा हूँ

बीते हुए खट्टे मीठे लम्हों का हिसाब लिए बैठा हूँ

समय के चक्रचाल  को भला कौन समझ पाया है

बीते लम्हों का दिन महीने साल लिए बैठा हूँ,


पलट कर गौर से देखता हूँ उन भरे हुए पन्नो को..

जो बीते दिनों की खट्टे मीठे अनुभव कराती है

जब भी याद करता हूँ अपने बीते हुए लम्हे को

  वह चलचित्र जैसे ज़िन्दगी की कहानी दिखाती है


कुछ  पन्नो में  ढेर सारी   खुशिओं का जिक्र है

तो कुछ  यादें  आँखों को  नम   कर जाती है 

कुछ पन्नों में दर्ज है  सफलता के  स्वर्णिम पल 

तो कुछ असफलताओ के अनुभव भी कराती है 

ज़िन्दगी के कुछ पल कभी कभी ठहरे से दीखते है 

तो  कुछ  पल  मौत का एहसास भी कराती  है     

कुछ पन्नो  में दर्ज है  गैरों के अपनापन का किस्सा

तो कुछ में अपनों को ही खुद से दूर दिखाती है

 हालात ज़िन्दगी के  कुछ इस तरह हो गए है कि

हर पल हर क्षण  अपने प्रभु की याद  सताती है ..

हाँ, आज मैं अपने ज़िन्दगी की किताब खोले बैठा हूँ

बीते हुए खट्टे मीठे लम्हों का  हिसाब लिए बैठा हूँ |

पहले की ब्लॉग  हेतु नीचे link पर click करे..

https:||wp.me|pbyD2R-1uE

BE HAPPY….BE ACTIVE….BE FOCUSED….BE ALIVE…

If you enjoyed this post, please like, follow, share and comments

Please follow the blog on social media …link are on contact us page..www.retiredkalam.com



Categories: kavita

34 replies

  1. Wonderful lines. Deep within speechless

    Liked by 1 person

  2. मैं खुद से भी रोज बात करता हूं और भगवान से भी।

    Liked by 2 people

  3. Thank you for sharing such reflections. You made me think of those moments early in the morning when I oftern think about my purpose. I look back at what I have done (became a CEO), where I am now (I have my own consulting business) and whether my purpose will change again (as I phase myself towards retirement, which is a long way off yet).

    Liked by 1 person

  4. अति सुंदर कविता👌👌

    Liked by 1 person

  5. आपकी टिपंणी बहूत सोचसमझके अच्छी राहती है बहोत अच्छा सोचके लिखते है आप बहोत खूब हो ग्रेट सर

    Liked by 1 person

  6. बहुत ही सुन्दर

    Liked by 1 person

  7. आपकी पहचान सब जानते हैं पहचान खुद बन गई आपकी

    Liked by 1 person

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: