# तुम्हारी वो यादें #

दोस्तो, यादें हमारी जिंदगी के उन  पुराने लम्हों की वजह से बनते है जिसको हम कभी भूल नही पाते  है | वे यादों के पल कुछ भी हो सकते है … जैसे स्कूल की यादें या  पुराने दोस्तों की यादें |

और भी बहुत सारे यादगार पल होते है हमारी ज़िन्दगी में,  जिसको भूलना  हमारे लिए मुमकिन नहीं होता है |

ऐसे ही कुछ यादगार पलों की अनुभूति एक कविता के माध्यम से प्रकट हो गयी |..

तुम्हारी वो यादें  

दिल को जब भी उदास पाता हूँ

आँखे बंद कर मैं  बैठ जाता हूँ ..

उन सारे बिताये  लम्हों के साथ…

जो रचे – बसे है तेरी यादों में  | ..

बूंद – बूंद टपकती वो मधुर लम्हे

मैं सपनो की दुनिया में खो जाता हूँ  |

तू आस – पास नहीं है तो क्या हुआ

याद कर तुम्हे हर पल अपने करीब पाता हूँ  |

तुम्हारी स्वछन्द मुस्कान और प्रश्न भरी  निगाहें

तुमसे नज़रें मिला कर तरो ताज़ा हो जाता हूँ  |

सच, दिल को जब भी उदास पाता  हूँ..

तेरे मीठी यादों की छाँव मे बैठ जाता हूँ  ||

पहले की ब्लॉग  हेतु नीचे link पर click करे..

https:||wp.me|pbyD2R-1uE

BE HAPPY….BE ACTIVE….BE FOCUSED….BE ALIVE…

If you enjoyed this post, please like, follow, share and comments

Please follow the blog on social media …link are on contact us page..

www.retiredkalam.com



Categories: kavita

6 replies

  1. Tumhari oh yadden kavita acchi hai. Magar kisiki yaddonme. Suspense. Above all.Nice.

    Liked by 2 people

  2. Nice composition. Kaun hai tumhari jiski yaad me aap kho jate hain? You will not like to disclose..

    Liked by 2 people

  3. Beautiful composition and heart touching sir

    Liked by 2 people

Leave a Reply to Sanjeev Lal Cancel reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: