# तलाश अपने सपनों की #…10

कभी कभी आप बिना कुछ गलत किए भी बुरे बन जाते है ,
क्योंकि जैसा लोग चाहते है वैसा आप नहीं करते है …

Retiredकलम

SOURCE: gOOGLE.COM

आज राधिका बहुत खुश थी क्योकि आज बहुत दिनों के बाद कॉलेज खुली थी और अपने कॉलेज के दोस्तों के साथ मिल कर उसे बहुत अच्छा लग रहा था |

टिफिन टाइम में राधिका अपने दोस्तों के साथ लंच रूम में बैठी थी | वहाँ सभी सहेलियां आपस में लम्बी छुट्टियों में बिताए गए लम्हों को एक दुसरे से शेयर कर रही थी |

उसकी एक सहेली शालिनी की तो इन्ही छुट्टियों में सगाई (engagement) भी हो गई और वह बहुत खुश नज़र आ रही थी |

खुश होने की वज़ह भी थी | पिछले तीन सालों की दोस्ती के बाद अंततः उसी दोस्त को अपना जीवन साथी बनाने जा रही है |

हालाँकि उसके घर वाले अलग जाति होने के कारण वहाँ शादी करना नहीं चाहते थे, लेकिन शालिनी के जिद के कारण उनलोगों को यह रिश्ता मंज़ूर करना ही पड़ा |

यह सही है कि जिसके…

View original post 1,449 more words



Categories: Uncategorized

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: