# तलाश अपने सपनों की #…6

अच्छे लोगों को ढूंढना मुश्किल होता है ,
छोड़ना और भी मुश्किल और
भूल जाना नामुमकिन …

Retiredकलम

उस शाम मॉल में संदीप को सोफ़िया के साथ देख कर राधिका को बहुत जोर का गुस्सा आया था |  संदीप के रोकने के बाबजूद वह हाथ झिड़क कर गुस्से में पैर पटकती वापस घर आ गई थी और अकेले में बैठ कर बहुत देर तक रोती रही थी |

उसे तो सोफ़िया से भी नफरत सी हो गई थी, उन दोनों ने मेरे विश्वास को ठेंस पहुँचाया है….राधिका मन ही मन ऐसा सोच रही थी |

रात काफी हो गई थी और राधिका बिस्तर पर पड़े इन्ही सब बातों में उलझी ना जाने कब उसे नींद लग गई थी | रात का खाना भी नहीं खाया क्योकि गुस्से के कारण भूख भी गायब हो गई थी |

सुबह देर तक राधिका को सोता देख कर माँ ने डांटते हुए कहा  ….आज कल तुझे क्या हो गया है ?  रात में खाना भी नहीं खाई  और अभी इतनी देर तक…

View original post 1,495 more words



Categories: Uncategorized

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: