# एक कहानी सुनो #…10

अजब गजब कहानी

दोस्तों,

मैंने बहुत सारी हत्या की कहानियाँ और  सीरियल किलर की कहानियाँ पढ़ी है, लेकिन इस कहानी को पढने पर एक अलग तरह का डर और रोमांच की अनुभूति होती है |

यह एक ऐसी लड़की की कहानी है जो सीरियल किलर थी |  यह घटना, है तो ४०० साल पुराना लेकिन एक लड़की होते हुए भी उसने  अब तक का  सबसे ज्यादा हत्या करने का रिकार्ड बनाया और इसका नाम गिनीज़ बुक में भी दर्ज है |

जी हां, इस लड़की ने  दरिंदगी की सारी हदें पार करती हुई करीब 650  क़त्ल  कर चुकी है और अगर पकड़ी नहीं जाती तो शायद यह सिलसिला आगे भी चलता रहता |

ऐसी बातें सुन कर मन में सवाल उठना लाज़मी है कि कोई इतनी बड़ी संख्या में क़त्ल कैसे कर सकता है ?  और इसकी वज़ह क्या रही होगी ?

अब आप अपने जिज्ञासा को विराम देते हुए, पूरी कहानी सुनने को तैयार हो जाएँ |

एक देश हंगरी के एक शाही परिवार की ऐसी लड़की जो दिखने में बेहद खुबसूरत थी, जिसका जन्म १५६० ई  में हुआ और नाम था एलिज़ाबेथ |

चूँकि शाही खानदान से होने के कारण उसकी  अच्छी परवरिश, अच्छी शिक्षा सब कुछ शानदार ढंग से हुआ था |

उसे बचपन से यह एहसास था कि वह बेहद खुबसूरत है | उसके सगे सम्बन्धी और दोस्त, समय समय पर इस बात का उसे एहसास भी दिलाते रहते थे |

धीरे धीरे वक़्त बिता, और वह जब 15 साल की हुई तो उसकी शादी कर दी गयी | इतनी कम उम्र में शादी करने का कारण था  कि जब वह 12 साल की थी तभी उसे किसी लड़के से  प्यार हो गया था, वो लड़का इसे अपने जाल में फसां रहा था |

इससे परेशान होकर घर वाले उसकी शादी वहाँ के  एक सुन्दर नौजवान से कर दी | उसका नाम सरेंट था और वह वहाँ के सेना में काम करता था | तुर्की के साथ  युद्ध में  उसने अहम भूमिका निभाई थी, इसलिए वह अपने देश का नेशनल हीरो था | 

 शादी के बाद कुछ दिनों तक सब कुछ सामान्य रूप से चल रहा था |

एलिज़ाबेथ का शाही परिवार था,  इसलिए उसके माता पिता  उसे रहने के लिए एक आलीशान महल दिया था,  जिसमे आराम से दोनों रह रहे थे |

हालाँकि फौज में रहने के कारण वह ज्यादातर घर से दूर ही रहता था |

इस बीच  एलिज़ाबेथ के तीन बच्चे भी हुए | बढती उम्र के साथ चेहरे की खूबसूरती कम होने लगी और जवानी भी ढलान पर आ रही थी |

वह अपनी सुन्दरता को लेकर बचपन से ही सजग रहती थी,  इस कारण अब वह थोड़ी परेशान रहने लगी थी |

शाही परिवार होने के कारण, माँ बाप के घर  नौकरों को पीटना और लोगों को सजा देना आम बात थी | यह सब बचपन से देखने के कारण उसका स्वभाव भी क्रूर हो गया था |

एक बार की घटना है कि उसकी एक नौकरानी उसके बाल संवार रही थी तभी गलती से उसकी  बाल खीच गए और उसे जोरों का दर्द हुआ | इस कारण उसे जोर का गुस्सा आया … और अचानक  उसने उस नौकरानी को जोर का थप्पड़ मार दिया | 

थप्पड़  इतनी जोर से लगी कि  उसके  नाक- मुँह से खून निकलने लगा |  कुछ खून एलिजाबेथ के बांह पर भी लगा गया |

उसने वह खून तुरंत साफ़ नहीं किया और खून थक्का बन कर वही चिपक गया | हालाँकि 4-5 घंटे बीत जाने के बाद  उसका गुस्सा शांत हुआ और फिर उसने अपने बांह में लगे खून के धब्बे को साफ़ किया | 

लेकिन तभी उसने महसूस किया कि खून वाली जगह की स्किन कुछ ज्यादा मुलायम  और चिकनी लग रही है | उसे बाकि जगह के स्किन से भिन्न महसूस हुआ |

उसके दिमाग में यह बात घर कर गयी की खून लगने से वहाँ की त्वचा खुबसूरत और जवां हो गई  है |

कुछ दिनों के बाद उसकी मुलाकात एक सहेली से होती है  और तब वह  बातों बातों में खून वाली त्वचा के बारे उससे चर्चा करती है |

पता नहीं उसके सहेली दोस्त के मन में क्या सुझा कि उसने भी उसकी हाँ में हाँ मिलाते हुए कहा कि मैंने भी सुना है कि आदमी के खून,  खासकर कुंवारियों के खून को त्वचा पर लगाने से त्वचा पर  झुर्रियाँ नहीं पड़ती और बुढ़ापा भी नहीं आता |

इन सब बातों ने  एलिजाबेथ के दिमाग में ऐसा असर डाला कि उसके अन्दर एक खूंखार साजिश चलने लगी | वह हमेशा जवान और खुबसूरत दिखना चाहती थी |

उसने सोचा कि इतनी थोड़ी सी  खून मेरे बांह पर लग कर इतना असर कर सकती है तो पुरे शरीर  पर लगाऊं तो मेरा पूरा शरीर फिर से खुबसूरत हो जायेगा |

एक दिन की बात है कि वह अपनी एक नौकरानी को अपने घर में बने तहखाने में ले गई, जहाँ उसे खूब मारा पिटा गया, |

उसे ज़ंजीर से बाँध दिया और नीडल और सिरिंज के सहारे उसके बदन से  बहुत सारे खून निकाले और उस खून को अपने बाथटब में डाल दिया | फिर उस खून से वह कई घंटे स्नान करती रही |

नहाने के बाद उसे ऐसा महसूस हुआ कि उसके शरीर की त्वचा निखर गयी है | इस तरह यह सिलसिला चलने लगा |

वह  जवान और कुंवारी नौकरानियों को एक एक कर उसके खून के  लिए उसे जान से मारने लगी और उसके खून से नहाती रही | 

चूँकि शाही परिवार से थी तो कोई उस पर शक नहीं करता और डर से भी कुछ नहीं कहता |

इसी बीच  एक दिन उसका पति फौज से छुट्टी लेकर आया  और बातों बातों में उसने  अपनी पत्नी से कहा … अरे वाह,  तुम तो पहले से ज्यादा  खुबसूरत लग रही हो |

इतना सुनना था कि ख़ुशी के मारे एलिज़ाबेथ ने राज़ की बात अपने पति को बता दी और इतना ही नहीं पति के रहते और पति की मदद से भी कुछ क़त्ल किये और उस खून से स्नान करती रही | 

उसका पति उसकी खूबसूरती पर फ़िदा था , इसलिए आर्मी में होते हुए भी उसे इस गलत काम को करने से  मना  नहीं कर सका |

लेकिन यह सिलसिला कब तक चल सकता था |, उसके महल में नौकरानी, खास कर कुँवारी और जवान लड़कियां  की कमी पड़ गयी | लेकिन उसकी यह हवास ख़तम होने का नाम ही नहीं ले रही थी |

अब उसने बहुत होशियारी से आस पास के गाँव में  गरीब घरों की लड़कियां पर नज़र रखने लगी |  अपने नौकरों की सहायता से उन गरीब लड़कियों को अपने यहाँ काम पर रखने लगी |

कुछ समय के अंतराल में उसका भी वही अंजाम होने लगा | इस तरह गाँव की लड़कियां अचानक गायब होने से गाँव के लोग चिंतित हो उठे |

इधर एलिज़ाबेथ की  हवस अब  इस चरमसीमा तक पहुँच गया था कि वह अपने तहखाने में लड़कियों को चेन से बाँध कर रखती, जैसे कसाई अपने बकरे को बाँध कर रखता है |

वह अपने नौकरों को मौज मस्ती के लिए उस तहखाने में भेज देती और जब उसे नहाने के लिए खून की ज़रुरत पड़ती तो वह तहखाने में जाकर उन लड़कियों का  एक एक अंग काट कर खून इकट्ठा करती |  कभी कभी तो उसके मांस के टुकड़े भी खा जाती | 

नौकरों को  मौज मस्ती की आज़ादी थी इसलिए यह राज़ बाहर नहीं आ रहा था | इस तरह उसके तहखाने  में शिकार हमेशा बंधा रहता था |  और सब कुछ गुप्त रूप से चल रहा था |

आश्चर्य की बात  कि यह सिलसिला करीब बीस साल तक चलता रहा और इस बीच  एलिजाबेथ ने  करीब ६५० लड़कियों  को उसके जिस्म के खून के लिए मार डाला गया था | 

इसी बीच उसके पति की एक बीमारी से मौत हो गयी | इससे एलिज़ाबेथ और भी आज़ाद हो गयी |

लेकिन कहते है न कि पाप का घडा एक न एक दिन फूटता ही है |

गाँव की बहुत सारी लड़कियां गायब हो चुकी थी | खास कर वो लडकियां जो महल में आती पर वह वापस नहीं जा पातो थी |

इससे गाँव वालों को शक हो गया और उनलोगों ने आपस में विचार विमर्श किया कि वो लड़कियां खास कर जवान लड़कियां जो महल में आती है वह कहाँ गायब हो जाती है |

इसलिए गाँव वालों ने इसकी शिकायात वहाँ के राजा  से की | लेकिन राजा के तरफ से कोई सुनवाई नहीं की गई, क्योंकि अकेली एलिजाबेथ पर कैसे कोई शक कर सकता था | 

लेकिन इसी  बीच एक घटना घटी | महल से दो लड़कियां किसी तरह उसके चंगुल से  छुट गई | 

वह अपने गाँव में पहुँच कर  जब पूरी कहानी सुनाई कि कैसे उसके नौकर उसे हवस का शिकार बनाते और फिर एलिज़बेथ उसके जिस्म को चिर -फाड़ कर खून निकालती है |

पूरी कहानी सुनने के बाद गाँव वाले दहल गए और फिर राजा  के पास सबूत के साथ शिकायत की | तब राजा  ने अपने दो मंत्रियों को जांच के आदेश दिए |

जांच शुरू करते हुए  उस महल के चार नौकरों को हिरासत में लेकर पूछ – ताछ की गई तो सारे राज एक एक कर खुलते चले गए | 

वह डायरी भी बरामद  हो गयी जिसमे करीब  650 लड़कियों के बारे में लिखा था जो गायब थे |

जब रिपोर्ट राजा को सौपी गयी तो राजा भी सुन कर बहुत हैरान हुआ |

उसने तुरंत अपने पुलिस को कार्यवाही का आदेश दिया | पुलिस ने जब तलाशी ली तो उसे भी यह जान कर काफी हैरानी हुई कि यह मासूम सी  दिखने वाली एलिज़ाबेथ ने अपने तहखाना में किस तरह की हवस और हैवानियत का नंगा नाच किया था | 

उसके महल से बहुत सारे कंकाल तो मिले ही. कुछ जिंदा लड़कियां भी मिली जो जंजीरों में ज़कड़े अपने मौत का इंतज़ार कर रही थी | 

पुलिस ने उन्हें आज़ाद कराया  और बाकि सब लोगों को हिरासत में ले लिया |

आनन् फानन में राजा ने  एलिज़ाबेथ के नौकरों को तो फांसी दे दी | लेकिन ६५० लड़कियों के खून करने के बाद भी एलिजाबेथ को फांसी नहीं दी गयी | 

उस समय इस देश में क़ानून था कि  चाहे कितना भी संगीन जुर्म हो, शाही परिवार के सदस्यों को फाँसी नहीं दी जा सकती है |

अंत में उसे उसकी महल के एक कमरे में ही नज़रबंद कर रखा गया, ताकि और किसी लड़की का क़त्ल ना कर सके  | 

लोग कहते है कि करीब चार साल तक वह जिंदा रही लेकिन एक दिन उसकी तबियत अचानक बिगड़ गयी तो उसने उस रात को ही अपने तबियत के बारे में  वहाँ के सुरक्षा गार्ड को बताया |..

लेकिन सुरक्षाकर्मी ने सोचा कि कल सुबह डॉ को दिखा दिया जायेगा |

लेकिन जब सुबह हुई तो सुरक्षा गार्ड ने उसे मृत पाया | इस तरह 54 साल की उम्र में उसकी मौत हो गई |

एलिज़ाबेथ की  इच्छा थी कि वह कभी बूढी ना हो और उसकी खूबसूरती सदा बरकरार रहे इसीलिए वह हमेशा खून से नहाती रही | 

हाँ, यह ज़रूर था कि मौत के समय वह बूढी नहीं हुई थी और  खुबसूरत भी दिख रही थी … परन्तु ऐसी खूबसूरती का क्या फायदा …??

ज़िन्दगी के वो पल ब्लॉग  हेतु नीचे link पर click करे..

https://wp.me/pbyD2R-2VJ

BE HAPPY….BE ACTIVE….BE FOCUSED….BE ALIVE…

If you enjoyed this post, please like, follow, share and comments

Please follow the blog on social media …link are on contact us page..

www.retiredkalam.com



Categories: story

20 replies

  1. Thank you dear,
    You can suggest me for any improvement..

    Like

  2. Reminded me of the story and films of Count Dracula who hunted humans and drank their blood. She may have been a source of inspiration for the Dracula story Indeed, Elizabeth bathory is the most vicious female serial killer, a female vampire, in the recorded history.

    Liked by 2 people

  3. Yes sir, that film was inspired by this story..
    This story shows how dangerous the human mind can think,
    this cycle went on for 20 years.,
    Thanks for sharing the information..

    Like

  4. Aisa bhi Dunia me hota hai. Sundar aur Romanchak.

    Liked by 2 people

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: