# तलाश अपने सपनों की #….4

वक़्त से बड़ा न्यायधीश कोई नहीं है,
ये जो भी निर्णय करता है सबको मानना ही पड़ता है …

Retiredकलम

धीरे धीरे सोफ़िया से उसकी घनिष्ठता बढती जा रही थी | आये दिन संदीप को कुछ ना कुछ वो गिफ्ट देती रहती थी ,जिसे पाकर संदीप खुश हो जाता | इसी तरह समय बीत रहे थे और संदीप को लगने लगा कि अब अच्छे दिन आ रहे है |

संदीप, जी -जान से प्रणव को पढ़ा रहा था और इसका परिणाम भी सामने आ गया | मात्र छह माह में ही सोफ़िया का बेटा स्कूल में सबसे अच्छा विद्यार्थी बन गया |

एक दिन तो स्कूल के प्रिंसिपल ने सोफ़िया को बुला कर  पूछा था .. .आप के प्रणव में तो काफी परिवर्तन आ गया है,|

पढाई के अलावा खेल कूद में भी स्कूल का अव्वल छात्र बन गया है |

कैसे अचानक इस बच्चे में परिवर्तन आ गया ?   ज़रूर कोई अच्छे  ट्यूटर (tutor) की सेवा ले रही है आप |,  

प्रिंसिपल की बातें सुनकर , सोफ़िया…

View original post 1,215 more words



Categories: Uncategorized

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: