# तलाश अपने सपनों की #….3

जीवन में कई बार हम बड़ी बड़ी परेशानियों से यूँ निकल जाते है ,
मानो कोई साथ दे रहा हो …
इसी अदृश्य शक्ति का नाम परमात्मा है…||

Retiredकलम

सोफ़िया का घर था बड़ा शानदार, लेकिन इतने बड़े घर में वो अकेले अपने छोटे बच्चे के साथ रहती है | 

देखने में वो खुद भी बहुत ख़ूबसूरत और आकर्षक है और उसकी आँखों में तो गज़ब का जादू है |

जब भी वो संदीप से बात करती, उसकी आँखों की तपिस वह बर्दाश्त नहीं कर पाता | उसका दिल जोर से धड़कने  लगता और वो अपनी नज़रे दूसरी ओर फेर लेता |

लेकिन सोफ़िया के हाव – भाव और बात-चीत से संदीप  को ऐसा महसूस हुआ कि उसके पास  भगवान् का दिया हुआ तो सब कुछ है, लेकिन अकेलापन के कारण वो ज़िन्दगी से खुश नहीं है |

उसे तो कोई ऐसा दोस्त चाहिए जिससे वह अपने दिल की बात कर सके  और हमेशा उसके साथ रहे |

लेकिन शायद इन सब की कमी ही उसके उदासी का कारण हो सकता है | क्योकि बोलते – बोलते कई बार…

View original post 1,441 more words



Categories: Uncategorized

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: