# तलाश अपने सपनों की #….1

जिन्हें मालूम है कि अकेलापन क्या होता है ,
वो लोग हमेशा दूसरों के लिए हाज़िर रहते है |

Retiredकलम

ख़ुशी ज़ल्दी में थी .. चली गई

गम फुर्सत में थे ..ठहर गए ,

ठोकर लगी पर गिरे नहीं

वक़्त रहते संभल गए ,

ढूंढता हूँ वो बीते हुए लम्हे

न जाने वो किधर गए……

संदीप को घर बैठे पुरे एक साल हो गए लेकिन अभी तक नौकरी नहीं लग सकी थी |

उसके बचपन का दोस्त राजीव जो उसी के साथ में उसी बैंगलोर के एक इंजीनियरिंग कॉलेज से इंजीनियरिंग की पढाई  पूरी की थी | उसे कॉलेज से पास करते ही नौकरी मिल चुकी है |

और मिलती भी क्यूँ नहीं भला, उसकी पैरवी तो जबरदस्त थी |

आज वह मुंबई में ठाठ से नौकरी कर रहा है /

लेकिन संदीप के पास तो पैरवी के नाम पर कोई भी जान पहचान या परिवार में ऐसा कोई आदमी दिखाई नहीं पड़ता था, जिससे वह अपनी नौकरी के लिए कही भी सिफारिस करवा सके |

  गवई परिवेश और…

View original post 1,257 more words



Categories: Uncategorized

4 replies

  1. I read all 17 instalments. A good story with happy ending. All’s well that ends well.

    Liked by 1 person

Trackbacks

  1. # तलाश अपने सपनों की #….1 – Love & Love Alone

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: