# कृष्ण की राधा #

हम चाहें तो अपने आत्मविश्वास और मेहनत के बल पर
अपना भाग्य खुद लिख सकते है ..और अगर हमको अपना
भाग्य लिखना नहीं आता तो परिस्थितियां हमारा भाग्य लिख देगीं |

Retiredकलम

source:Google.com

एक दिन जब श्री कृष्ण  स्वर्ग में विचरण कर रहे थे तो अचानक राधा सामने मिल गई | उसे देख कर विचलित सी कृष्णा और प्रसन्नचित सी राधा .., कृष्णा सकपकाए  पर राधा मुस्कुराई |

इससे पहले कि कृष्णा कुछ कह पाते, राधा बोल उठी… कैसे हो द्वारिकाधीश ?

जो पहले राधा उन्हें कान्हा कान्हा कह कर बुलाती थी , उसके मुख से द्वारिकाधीश का संबोधन, कृष्णा को  भीतर तक घायल कर गया |

फिर भी किसी तरह अपने आप को संभाल लिया उन्होंने और बोले… राधा,  मैं तुम्हारे लिए आज भी वही कान्हा हूँ,  तुम तो मुझे द्वारिकाधीश मत कहो |

आओ बैठते है …कुछ मैं अपनी कहता हूँ कुछ तुम अपनी सुनाओ |

सच कहूँ राधा , जब जब भी तुम्हारी याद आती थी इस आँखों से आँसुओं की बुँदे निकल आती थी |

राधा बोली …मेरे साथ ऐसा कुछ नहीं हुआ |  ना तुम्हारी याद आई…

View original post 717 more words



Categories: Uncategorized

3 replies

  1. प्रेम व समर्पण का सुंदर संदेश देती खूबसूरत कहानी 👏👏
    बेहतरीन कविता 👌🏼👌🏼😊🙏🏼

    Liked by 1 person

  2. बहुर बहुत धन्यवाद ..
    मुझे ख़ुशी हुई ..आप ने इसे पसंद किया ..|
    आप स्वस्थ रहे …खुश रहें…

    Liked by 1 person

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: