# जीवन की सच्चाई #

हँसते रहोगे तो दुनिया साथ है,
वरना आँसुओं को तो आँखों में भी
जगह नहीं मिलती ….

Retiredकलम

हमलोग कई सारे सपने देखते है | कुछ तो सच हो जाते है और कुछ नहीं भी | फिर भी ज़िन्दगी तो अपने रफ़्तार से ही चलती रहती है |

कभी कभी हम अपने जीवन के बारे में सोचते  कुछ है…और हो कुछ और जाता है |

कहते है ना कि…

ज़िन्दगी तो बेवफा है एक दिन ठुकराएगी /

मौत मेहबुबा है अपने साथ ले कर जाएगी //

आज सचमुच मैं बहुत ही दुखी हूँ | एक ऐसा खबर… जिसे सुनकर मुझे अब भी विश्वास नहीं हो रहा है | वो हमारे बहुत ही करीबी मित्र जिनके साथ बरसों अपने बैंक में साथ साथ काम किया और साथ साथ ही रिटायर भी हुए |

बड़ा ही हंसमुख और मस्त मौला इंसान था | अभी कुछ दिनों पूर्व ही विवेकानंद रोड ब्रांच में उनसे मुलाकात हुई थी, …बहुत सारी बातें हुई थी |

अभी ज्यादा दिन कहाँ हुए थे रिटायरमेंट के…

View original post 505 more words



Categories: Uncategorized

4 replies

  1. Good. How are you doing today

    Liked by 1 person

  2. Nice to meet you where are you from

    Liked by 1 person

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: