# मैं आवारा हूँ #

मोह इतना न करें कि बुराइयाँ छुप जाएँ , और
घृणा भी इतनी न करें कि अच्छाईयाँ देख ही न पायें …

आक खुश रहें….स्वस्थ रहें….मस्त रहें…

Retiredकलम

मेरी नई नई बैंक की नौकरी थी | मेरी पहली पोस्टिंग “रेवदर” शाखा में और अभी छह माह भी नहीं हुए थे कि मेरा पुनः ट्रान्सफर “शिवगंज” शाखा  में कर दिया गया |

कुछ दिनों पूर्व ही जब शाखा निरिक्षण के लिए श्री ए के भाटी साहेब यहाँ आए थे ..तो कहा था कि कम से कम २ साल तक यहाँ से ट्रान्सफर होना मुश्किल है | क्योंकि यह रूरल असाइनमेंट (rural assignment) है |

हालाँकि  सुना था कि यह नई  जगह “शिवगंज” रेवदर से ज्यादा सुविधा जनक और रहने लायक है, क्योंकि यह रेवदर जैसा गाँव नहीं , शहर है | सभी शुभचिंतक और शाखा के स्टाफ जो मुझसे हमदर्दी रखते थे ..सबों ने मुझे दिल से बधाई दिया… सिर्फ एक को छोड़ कर….. वो शाखा प्रबंधक महोदय थे |

क्योंकि उन्होंने ही मेरे खिलाफ “मार-पिट” का आरोप लगा कर उदयपुर हेड क्वार्टर में मेरी शिकायत दर्ज कराई थी…

View original post 793 more words



Categories: मेरे संस्मरण

Tags:

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: