# हर ब्लॉग कुछ कहता है #..16

मन की शांति

यह सत्य है कि अगर मन में शांति  हो तो सारा जीवन सुखमय हो जाता है  और अगर मन अशांत हो तो धन दौलत, एशो आराम होते हुए भी जीवन झंड  लगती है |

आज कोरोना काल में हमारी यही स्थिति हो गई है | आज हर आदमी परेशान नज़र आ रह है |  

हर कोई एक अनजाने डर को अपने दिल में पाल रखा है और डर डर के अपनी ज़िन्दगी जी रहा है | जब कि हम सब को पता है कि जो होना है वह अटल है  |..

फिर  भी हम सब आशंकित है और जो समस्या अभी हमारे सामने आई नहीं है  उसके बारे में सोच कर मन को अशांत क्यों रखना हैं |

आइये हम अपने मन को कैसे शांत रखे, उसका उपाय ढूंढते है, ताकि वर्तमान परिस्थिति में भी सुकून की ज़िन्दगी जी सके… 

शास्त्रों के अनुसार व्यक्ति का मन जीवन में बहुत अधिक महत्वपूर्ण होता है । मानव के  बेहतर ज़िन्दगी के निर्माण में मन का काफी महत्वपूर्ण भूमिका होता  है ।

गीता में श्री कृष्ण ने कहा है कि मनुष्य का मन  उसके मोक्ष और बंधन का कारक होता है । यह भी सत्य है कि मन बड़ा चंचल होता है | इसे वश में रखना आवश्यक है |

जिंदगी  में सफलता हासिल करने के लिए भी मन का मजबूत और शांत होना आवश्यक है ।

आइए जानते हैं …क्या है वो उपाय….

  • अपने दिनचर्या में कुछ  बदलाव करें :

    नित्य सुबह स्नान करने के बाद सूर्य को जल अर्पित करना और भगवान् का ध्यान लगाना चाहिए |

और साथ ही नियम से गायत्री मंत्र का जाप करने से मानसिक शांति मिलती है और जीवन में सकारात्मक ऊर्जा का प्रवाह होता है । 

गायत्री मंत्र

ॐ भूर्भुवः स्वः

तत्सवितुर्वरेण्यं

भर्गो देवस्यः धीमहि

धियो यो नः प्रचोदयात्

  • सादा और सात्विक आहार लें…

धार्मिक मान्यताओं के अनुसार मन की शांति के लिए सात्विक आहार लेना जरूरी है । यह सत्य ही कहा गया है कि जैसा अन्न वैसा मन | सात्विक आहार लेने से हमारे मन में बुरें ख्याल नहीं आते हैं और ध्यान नहीं भटकता है। हमारे अन्दर नकारात्मक विचारों का समावेश नहीं होता |..

  • संतुष्टि

पहले हमें अपने मन को अच्छी तरह समझना होगा | मन सिर्फ एक दिमागी  संरचना नहीं है बल्कि ये तो विचारो का संगम है जो हमारी सोच के सहारे चलता है |  

यह हमने देखा है कि  हमेशा मन में  तरह तरह के  हजारों विचार  लगातार उठते रहते है |

और यह मन ही  वह विचार उतपन्न करता है जिससे वह व्यक्ति  कुछ गलत या सही करने को  मजबूर हो जाता है | जीवन अनिश्चितता का संगम है कभी खुशियों का मेला आता है कभी दुखो का पहाड़ टूट पड़ता है ।

इसलिए सबसे ज़रूरी है कि आप हमेशा खुद एक अडिग वृक्ष की भांति खड़े रहे और किसी नकारात्मक बात से  विचलित ना हो | संयमी रहने से तो सफलता  आपके कदम चूमेंगी |

इसके लिए बहुत ज़रूरी है संतुष्टि |  आप खुद से जो भी  काम  कर रहे है या जितना भी कमा रहे है उसमे संतुष्ट रहना सीखना होगा |

संतोष से जीवन यापन करना होगा | बस, हम सोचे कि  प्रभु ने जितना दिया है उतना ही बहुत है | संतोष का  भाव मन में पैदा करना होगा | इससे मन में शांति रहेगी  और   चिंताएं घट जाएगी। यह ठीक ही कहा गया है कि संतोषम परम सुखं  |…

  • ईश्वर पर भरोसा रखें :-

जो भी कार्य  करे, चाहे नौकरी हो , व्यवसाय हो उसे लगन से करना चाहिए | हमेशा अपने कर्म को ईश्वर को अर्पित कर देना चाहिए | कर्म करना हमारे हाथ में है परन्तु उसका फल हमेशा हमारे  हाथ में नहीं होता है |

इसलिए फल की चिंता ना करे | मन में यह भाव होना चाहिए कि जो भी होगा हमारे लिये अच्छा ही  होगा |

  • अपने अन्दर विश्वास पैदा करें. :-  

आप कोई भी काम करने  के पहले उसमें  असफलता का संदेह पैदा नहीं  होने दें |   हमेशा ये सोचे कि जो भी आपने  अब तक किया है और जो आगे करेंगे वह किसी भी तरह के संदेह से पड़े होना चाहिए ….  आप के अन्दर ऐसा विश्वास पैदा करना होगा | आप सत्य कर्म और ईश्वर के अनुमति से ही सारे काम करते है तो फिर चिंता कैसी ?

  • विवेकशील बने…:-  

विवेक के हमारा अर्थ समझदारी से है  |  विवेकशील  मनुष्य हवा की चाल को समझ सकता है | अच्छे  बुरे का ज्ञान होता है | उसे पता होता है कि क्या ठीक है और क्या नहीं है | इसलिए विवेकशील बनना चाहिए |

  • संयमी बने रहे :-

संयम रखने वाले व्यक्ति उचित समय पर अपना हर निर्णय लेते है और किसी तरह की कुंठा नहीं पालते है |  अक्सर कोई भी काम करने से पहले संयम रखते है और  अच्छी तरह सोच विचार कर निर्णय लेते है |

इससे उनको कोई परेशानी और दिक्कत नहीं होती है और  जीवन सुचारू रूप से चलता है |

तो दोस्तों, ऊपर दिए गए विचारो को अपना कर हम एक आदर्श जीवन जी सकते है जो मन को शांत रख कर ही संभव है |..

आप सदा खुश रहे,…स्वस्थ रहें….मस्त रहें…

घर से निकलते ही , गर मिल गया कोरोना,

चलेगा न कोई बहाना, जीवन से हाथ धोना ।।

जीवन बड़ा अनमोल, मूर्खता में मत गंवाओ,

डरना है बहुत ज़रूरी, दुष्साहस मत दिखाओ ।।

जात देखता है , न औकात देखता भाई ,

कोरोना बड़ा बेदर्द, केवल गात देखता भाई ||

पिछला ब्लॉग देक्फ्ने हेतु नीचे दिए link को click करें..

https:||wp.me|pbyD2R-1uE

BE HAPPY….BE ACTIVE….BE FOCUSED….BE ALIVE…

If you enjoyed this post, please like, follow, share and comments

Please follow the blog on social media …link are on contact us page..

www.retiredkalam.com



Categories: motivational

10 replies

  1. Nice tips for happiness.

    Liked by 1 person

  2. प्रसन्न रहने के बहुत सुंदर विचारों से युक्त उपयोगी रचना 👏👏👌🏼🙏🏼

    Liked by 1 person

  3. Very nice and useful tips for leading a happy and positive life.

    Liked by 1 person

  4. मन को शांत रखने के लिए हमें अपनी पाँच इंद्रियों को काबू में रखना बहुत बड़ा उपाय है ।

    Keep writing 🤞🙏

    Liked by 1 person

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: