# स्वस्थ रहना ज़रूरी है #..14

सहजन के फायदे

दोस्तों, 

हम आशा करते है कि आप  सभी लोग स्वस्थ होंगे | इस कोरोना काल में स्वास्थ पर ध्यान देना बहुत ज़रूरी है | इसलिए हमारे स्वास्थ के लिए अत्यंत लाभकारी सहजन (drumstick)  के बारे में चर्चा करेंगे |

सहजन (मुनगा) लम्बी फलियों वाली एक सब्जी है जो सहजन के पेड़ पर होता है |  यह भारत में सभी जगहों पर मिलता है और इसके फायदे जान कर आप आश्चर्यचकित हो जायेंगे | इसे nutrition dynamite भी कहा जाता है |

विज्ञान में प्रमाणित किया गया है कि  सहजन के पेड़ का हर अंग स्वास्थ्य के लिए अत्यधिक लाभदायक है.|  इसे अंग्रेजी में मोरिंगा तथा ड्रमस्टिक ट्री कहते हैं. हमारे देश  में ज्यादातर लोग सहजन की फली को सब्जी व अन्य प्रकार के भोजन के रूप में इस्तेमाल करते हैं.|

 सहजन के पेड़ की खासियत यह है |कि इसका पेड़ कहीं भी आसानी से लग जाता है और यह काफी तेजी से बढ़ता है |

.यह हमारे लिए गर्व की बात है कि यह मूल रूप से उत्तर भारत से ही दुनिया भर में फैला है | , भोजन और रोग के उपचार के  अतिरिक्त सहजन का प्रयोग पानी साफ करने और हाथ धुलने के लिए भी किया जा सकता है. |

जैसा कि कहा गया है कि सहजन के प्रत्येक अंग हमारे लिए विभिन्न तरह से फायदे पहुंचाते है ..आइये एक एक कर उसके गुणों की चर्चा करें…

सहजन के बीज से तेल , छाल से गोंड , पत्ती और फली से विभिन्न तरह के सब्जी और  पकौड़े बनते है वही इसकी जड़ से विभिन्न प्रकार आयुर्वेदिक दवा बनता है |  यह 300 से ज्यादा बिमारियों में काम आता है |

सहजन की पत्ती

इसकी पत्तियों में प्रोटीन,  विटामिन – बी 6, विटामिन सी, विटामिन ए, विटामिन ई, आयरन, मैग्नीशियम पोटेशियम, जिंक जैसे तत्व पाये जाते हैं,| 

 इसकी फली में विटामिन ई और सहजन की पत्ती में कैल्शियम प्रचुर मात्रा में पाये जाते है. 

सहजन में एंटी ऑक्सीडेंट बायोएक्टिव प्लांट कंपाउंड होते हैं,|  यह पत्तियां प्रोटीन का भी अच्छा स्त्रोत है |. यह प्रोटीन किसी भी प्रकार से मांसाहारी स्रोत से मिले प्रोटीन से कम नहीं है क्योंकि इस में  सभी आवश्यक एमिनों एसिड पाए जाते है | इसके पत्तियों शिशु और  बढ़ते बच्चों के लिए टॉनिक के सामान है | पत्तियों के रस को  दूध में मिला कर बच्चों को पिलाने से उनकी हड्डियां मजबूत होती है| 

दूध पिलाने वाली माताओं के लिए सहजन अत्यंत लाभकारी है :-

पुराने ज़माने से चली आ रही रिवाज़ के अनुसार , प्रसूता  स्त्री को सहजन की पत्ती में घी को गर्म करके दिए जाने से उन्हें  दूध की कमीं नहीं होती और बच्चे के जन्म के बाद भी स्त्री को कमजोरी व थकान आदि महसूस नहीं  होता है |. बच्चों का स्वास्थ्य सही रहता है और वजन भी  बढ़ता है. | 

सहजन में पाए जाने वाला पर्याप्त कैल्शियम किसी भी अन्य कैल्शियम सप्लीमेंट से कई गुना अच्छा है | सहजन बच्चो में कुपोषण दूर करने का अच्छा साधन है |

हृदय रोग, और  डायबिटीज में लाभकारी  :-

यह ब्लड शुगर  और कोलेस्ट्रॉल लेवल संतुलित करता है | यह शरीर में हाई ब्लड शुगर लेवल को कम करता है, और साथ ही साथ  कोलेस्ट्रॉल कम करने की वजह से यह हृदय के लिए बहुत उपयोगी माना जाता है |

इन्सुलिन रेजिस्टेंस आदि की वजह से होने वाली जलन और सूजन से सहजन राहत दिलाता है | 

सहजन की पत्ती के आलावा इसकी फली,  फूल और बीज में भी यह गुण पाये जाते हैं .|  सहजन की सब्जी खाने से भी वे सभी लाभ उठाये जा सकते है |.

सहजन कैंसर प्रतिरोधी भी है –

सहजन की पत्तियों में  Kaempferol, Querecetin, Rdanmnetion जैसे एंटी ऑक्सिडेंट तत्व  पाए जाते हैं |  जिससे यह स्कीन, लीवर,  फेफड़े और गर्भाश्य के कैंसर होने से सुरक्षा प्रदान करता है |.

किडनी स्टोन की समस्या में कारगर – 

सहजन की पत्तियों के उपयोग से किडनी में जमे आवश्यक कैल्शियम को शरीर से बाहर निकालने में मदद करता है |  इससे  किडनी स्टोन नहीं बनता और यह किडनी स्टोन से होने वाले दर्द और जलन को भी कम करता है |.

सहजन के फूलो की चाय :- 

सहजन के फूल न्यूट्रिशन गुणों से भरपूर है | इसका उपयोग चाय में करने से यूरिन इन्फेक्शन, सर्दी जुकाम ठीक हो जाती है | सहजन के फूलों को  सलाद के रूप में  भी सेवन  किया जाता है |.

यह अनिद्रा, हाइपरटेंशन, एनिमिया आंत का अल्सर भी ठीक करता है और शरीर का  घाव जल्दी भरता है |  दिमागी स्वास्थ्य के लिए सहजन लाजवाब माना जाता है |

सहजन के बीजों से पानी साफ करना – 

सहजन पानी साफ करने में भी कारगर है, जिसका सर्दियों में प्रयोग होता है, इसके बीजों को कूटकर पानी में मिलाने से हानिकारक शैवाल और प्रदूषक तत्व अलग हो जाते हैं |

जानवरों के लिए चारा के रूप में – 

सहजन की पत्तियां जानवरों के लिए चारे के रूप में प्रयोग किया जाता है | इससे  दूध देने वाले जानवर अधिक दूध देते है और मांस के लिए पाये जाने वाले मवेशी खूब स्वस्थ रहते है |.

सहजन का तेल (BEN OIL) :  

सहजन के बीज से बनाया गया तेल काफी उपयोगी होता है |, यह अमुमन मिठी होती है और इसमें कोई खुशबू नहीं होती | अतः यह परफ्यूम बनाने में उपयोग किया जाता है | 

इसके अलावा सहजन का तेल उपयोग करके स्किन रोगों में लाभ प्राप्त किया जा सकता है .| सहजन का तेल सोरायसिस, एक्जिमा रोग में लगाने से लाभ होता है.| 

यह तेल चेहरे की एकमे और ब्लैकहेड्स की समस्या में चेहरे पर लगाने से भी फायदा होता है |

स्किन के लिये उपयोगी विटामिनों, एंटीऑक्सीडेंट गुणों से भरपूर यह तेल चेहरे की झुर्रियों और महीन लकीरें दूर करता है |.

सहजन एक बढ़िया हेयर टानिक है –

सहजन में व्याप्त  जिंक, विटामिन और एमीनों एडिस मिलकर केराटिन बनाते हैं जो बालों के ग्रोथ के लिए बहुत आवश्यक है |, 

सहजन की बीज में एक खास तेल होता है जिसे (बेन ऑयल) कहते हैं. यह तेल बाल लम्बे और घने रखता है और बाल झड़ने की परेशानी दूर करता है.| अतः सहजन की सब्जी, जूस, पाउडर किसी भी रूप में इसका सेवन करकें लाभ प्राप्त किया जा सकता है |

सहजन की फली :- 

सहजन की फली और पत्ती का सूप पीने  से बहुत लाभ होता है | सहजन की पत्ती को  दाल में मिलाकर खाने से रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ती है | जिससे बदलते मौसम के असर से बचाव होता है | और ऐसे मौसम में होने वाले सर्दी जुकाम से सुरक्षित रखता है |

सहजन पेट की समस्याओं के लिए :–      

यह पेट की समस्याओं के लिए बहुत  कारगर है | सहजन हल्का रेचक है इसलिए  यह पेट साफ करता है | फाइबर की वजह से यह कब्ज दूर करता है और  पेट के कीड़े और जीवाणुओं से भी सहजन मुक्ति दिलाता है | 

इसकी जड़ का पाउडर पेट में पाये जाने वाले राउंड वर्म  को खत्म करता है. |

वजन  घटाने में लाभदायक  :- 

सहजन  में डाइयुरेटिक गुण होते हैं जो कि शरीर की कोशिकाओं में अनावश्यक जल को कम करता है |  इसके एन्टी इंफ्लेमेटरी गुण शरीर की सूजन को कम करते हैं |, 

फाइबर से भरपूर सहजन शरीर में फैट अवशोषण कम करता ह और , इन्सुलिन रेजिस्टेंस कम करके यह अनावश्यक फैट जमने से रोकता है |

इस तरह हम देखते है कि सहजन आज के समय में हमारे लिए संजीवनी का काम करता है |

Source: Google.com

दीप तले अँधेरा हेतु नीचे Link पर click करें….

https://wp.me/pbyD2R-2oT

BE HAPPY …. BE HEALTHY … BE ALIVE…. BE FOCUSSED

If you enjoyed this post, please like, follow and comments..

Please follow the Blog on social media and visit my website below..

http://www.retiredkalam.com



Categories: health

12 replies

  1. In the Thai kitchen drumsticks (marum) are used in curries, stir-fries, soups, omelets, salads, tea: the long pods, the leaves, the flowers as well as the roots!

    Liked by 1 person

  2. Drumstick has many medicinal value. I regularly eat drumsticks. Similarly onion,garlic, turmeric, and other have medicinal value. All are good for health.

    Liked by 1 person

  3. Thank you very much..
    Stay connected and stay happy…

    Liked by 1 person

  4. Powerful health benefits of drumstick very well narrated.

    Liked by 1 person

Leave a Reply to nsahu123 Cancel reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: