# एक अधूरी प्रेम कहानी #..16

कभी आशा की ख़ुशी , ..कभी निराशा का गम
कभी कुछ खो कर… कभी कुछ पाने की आशा
शायद यही है ज़िन्दगी की परिभाषा …

Retiredकलम

source:Google.com

तुम बिन जाऊं कहाँ

रामवती के मन में एक द्वंद चल रहा था…उसकी आँखे कह रही थी कि इस तस्वीर में “रघु” ही है | लेकिन दिल मानने को तैयार ही नहीं था | वो सोचने लगी….भगवान् उसके साथ इतना बड़ा मजाक क्यों करेगा |

सुमन ने मुझे और मेरे बच्चे की जान बचाई है और अपने घर में पनाह दी है | अपने सगे से भी ज्यादा मानती है ….उस पर यह आरोप कैसे लगा सकती हूँ कि … तुम वही जादूगरनी हो, जिसने मेरे पति को फांस रखा है |

उस बेचारी का तो जीवन पहले से ही संघर्ष पूर्ण रहा है | वो एक ऐसे समाज में, जहाँ अबला नारी को पग पग पर चुनौतियों का सामना करना पड़ता है, , अपने को स्थापित करने में लगी है और .अपना सिर उठा कर इज्जत से जी रही है, |

इतना ही नहीं मुझ जैसे अंजान और…

View original post 1,940 more words



Categories: story

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: