# एक अधूरी प्रेम कहानी #…5

जीवन के इस कठिन दौर में आप स्वस्थ रहें, मस्त  रहें …
इन्हीं कामना के साथ…

Retiredकलम

होश के साहिल पे मुझको अब ना आने दीजिये,

आज तो बस मस्तियों में ..डूब जाने दीजिये |

आप को भी है खबर ये क्या नशीला दौर है,

आज का ये खुशनुमा ..माहौल ही कुछ और है |

एहसान आप का

आज मुझे नींद नहीं आ रही थी | कल तो इस हॉस्पिटल से नाम कट जायेगा और धारावी में अपनी खोली पर चले जाना होगा |

जैसा कि डॉक्टर साहब बोले है कि अभी घर पर ही आराम करना होगा | लेकिन काम भी तो ढूँढना पड़ेगा |

मेरे पास पैसा भी नहीं है जिससे अपना दवा – दारू और भोजन का इंतज़ाम कर सकूँ | विकास और रघु भी तो अभी अभी नौकरी पकड़ा है | उससे भी पैसे मांग नहीं सकता हूँ |

इन्ही सब बातो को सोचते हुए रात बीत गयी और ठीक से नींद नहीं आयी |

सुबह-सुबह, हरिया आते ही आवाज़ लगाया …रघु भैया…

View original post 1,472 more words



Categories: Uncategorized

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: