ज़िन्दगी तेरी अज़ब कहानी-…8

मत पूछो के मेरा कारोबार क्या है दोस्तों…
मुस्कुराहटों की छोटी सी दुकान है, नफरतों के बाज़ार में |

Retiredकलम

अंजना हैरान – परेशान उस नन्हे से बच्चे को लेकर पास के शहर में स्थित एक अनाथालय में पहुँची | उसे अस्त व्यस्त हालत में देख कर वहाँ की संचालिका ने समझा कि वह कुवांरी माँ बनने के डर से इस बच्चे को यहाँ छोड़ने आई है |

जब उनलोगों ने इस बारे में तहकीकात करने लगे तो अंजना ने तभी एक झूठी कहानी बना कर उनलोगों को सुनाया…..मैं इस बच्चे की अभागिन माँ हूँ | मेरे घर वाले मेरे किए इस पाप के कारण मुझे घर से निकाल दिया है |

मैं बहुत दुखी हूँ और आप के पास बहुत आशा लेकर आयी हूँ | संचालिका बहुत अच्छे स्वभाव की थी | उसे अंजना की स्थिति पर दया आ गई |

उन्होंने अंजना के सिर पर प्यार से हाथ रखते हुए कहा … घबराओ नहीं बेटी, तुम बिलकुल सुरक्षित जगह आई हो | तुम मेरी बेटी समान हो |…

View original post 1,235 more words



Categories: Uncategorized

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: