ज़िन्दगी तेरी अज़ब कहानी …7

The company of Loving friends and family is a blessing from God..

Retiredकलम

समय व्यतीत होते देर नहीं लगती है और देखते देखते वह समय भी आ गया , जब बारात घर पर आ गई |

अंजना अपने सारे दुःख को भूल कर अपनी छोटी बहन निर्मला की शादी में बढ़ चढ़ कर हिस्सा ले रही थी और शादी बहुत अच्छे ढंग से संपन्न हो गई |

लड़की की बिदाई का समय भी आ गया .. .सचमुच विदाई की घडी लड़की वालों के लिए बड़ा भावुक कर देने वाला होता है |

सब लोगों के आँखों में आंसूं थे | निर्मला जब अपनी बड़ी बहन अंजना से लिपट कर रो रही थी तो उस समय अंजना के आँखों के आँसू सुख चुके थे | वह सामने खड़े विजय को देख रही थी | वह भी चुप चाप अंजना को ही देखे जा रहा था |. दोनों की मजबूरियां चेहरे पर साफ़ झलक रही थी |

अंजना तो जैसे अपने दिल पर पत्थर रख…

View original post 1,192 more words



Categories: Uncategorized

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: