ज़िन्दगी तेरी अज़ब कहानी -—3

Retiredकलम

विजय वैसे अच्छा लड़का था और दोनों घरो के बीच काफी नजदीकियां थी |

अंजना से उसकी शादी करने पर घर में किसी को आपत्ति नहीं होनी चाहिए थी |

लेकिन चाची को तो एक बहाना चाहिए था अंजना को डांट- डपट करने का, क्योकि चाचा ने उसे सिर पर बैठा रखा था, और रखते क्यों नहीं, उसके हिस्से की बहुत सारे पैसे अपने नाम से जमा करा रखे है, | उनका तो एक प्राइवेट फर्म में एक मामूली सी नौकरी है | इसीलिए सब की नज़र अंजना के पैसो पर रहती है |

लेकिन कहते है न कि चाहे सौतेली माँ हो या चाची .. वह माँ की जगह नहीं ले सकती | वह तो किसी ऐसे साधारण लड़के की तलाश में थी जो बिना दान – दहेज़ के शादी कर ले और उसके सारे पैसे चाचा – चाची हड़प ले |

चाची ने विजय और अंजना के बारे…

View original post 1,240 more words



Categories: Uncategorized

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: