ज़िन्दगी तेरी अज़ब कहानी …2

दो हीं चीजें ऐसी है, जिन्हें देने में किसी का कुछ नहीं जाता …
एक मुस्कराहट और दूसरा दुआ …हमेशा बांटते रहिये , हमेशा बढती रहेगी …

Retiredकलम

source: Google.com

पापा और मम्मी को होश तो थी लेकिन वे लोग दर्द से छटपटा रहे थे | कांच के टुकड़े उनके चेहरे में धंस गए थे क्योंकि हमारी कार बहुत जोर से चट्टान से टकरा गई थी | वो तो गनीमत थी कि मुझे ज्यादा चोट नहीं आई थी |

मैं अपने मम्मी और पापा को इस तरह तड़पता देख रही थी और अपने को बिलकुल असहाय महसूस कर रही थी | मेरी सिसकियाँ निकल रही थी लेकिन मेरी रोने की आवाज़ सुनने वाला और सहायता करने वाला वहाँ कोई नहीं दिख रहा था |

रास्ता बिलकुल सुनसान था और चारो तरफ धुप अँधेरा भी |

ऐसी स्थिति में मैं डर से थर – थर काँप रही थी | मुझे डर लग रहा था कि कहीं वो बदमाश लोग फिर से ना आ जाएँ |

मैं रोते हुए भगवान् से प्रार्थना कर रही थी …हे भगवान्, मेरे मम्मी –…

View original post 1,184 more words



Categories: Uncategorized

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: