स्वस्थ रहना ज़रूरी है ..10

आंवला अमृत समान

हेल्लो फ्रेंड्स..

आज कल  मैं अपना इम्युनिटी  बढाने के लिए रोज़ एक घंटा पार्क में जाकर मॉर्निंग वाक (morning walk) करने लगा हूँ |

लेकिन इन दिनों मैंने एक अच्छी बात नोटिस किया |  पार्क के मेन गेट पर एक ठेला लगता है जो वीट ग्रास (wheat grass) जूस , आंवला जूस, करेला जूस इत्यादि बिलकुल ताज़ा  निकाल कर पिलाता है | मात्र २० रूपये ग्लास में आप कोई भी जूस का सेवन कर सकते है |

मैं भी रोज़ आंवला जूस का सेवन सुबह सुबह करता हूँ | मैंने सुना है कि आंवला का सेवन सुबह खाली पेट करना काफी फायदेमंद होता है. |

लोगों का कहना है कि रोजाना सुबह एक से दो  आंवला  खा सकते हैं |  हालाँकि दिन में दो आंवले से ज्यादा न खाएं. क्योंकि इसमें भरपूर्ण मात्रा में मौजूद विटामिन – सी कब्ज की समस्या पैदा कर सकता है |.

लोग यहाँ तक कहते है कि आंवला जूस का सेवन सुबह खाली पेट करने से अमृत सामान फल देता है | जब इसके बारे में जानकारी इकट्ठी की तो मैं आंवला के फायदे के बारे में जान कर हैरान रह गया |

इसलिए मैंने सोचा कि क्यों न आंवला के फायदे के बारे में जानकारी शेयर किया जाए |

सर्दियों में आवंला खाने के काफी फायदे होते हैं. विटामिन-सी से भरपूर आंवला, आंखों, बालों और त्वचा के लिए फायदेमंद होता है. आयुर्वेद में इसे कई बीमारियों के लिए रामबाण भी कहा गया है.

आंवले को विटामिन सी का एक समृद्ध स्रोत माना जाता है. इसमें पॉलीफेनोल जैसे यौगिकों से भरपूर, लौह और जस्ता जैसे खनिज, कैरोटीन और विटामिन बी कॉम्प्लेक्स जैसे विटामिन निश्चित रूप से कई बीमारियों को दूर रख सकते हैं.|

 इसमें कुछ ऐसे तत्व होते हैं जो हमारी इम्यूनिटी को बढ़ाने और फेफड़ों को वायु प्रदूषण से बचाने में भी  मदद करता है.|

कैंसर से करता है बचाव

आंवला में एंटीऑक्सीडेंट गुणों की मात्रा भरपूर होती है,जो कैंसर जैसी घातक बीमारियों से बचाव करता है. यह कैंसर का रूप लेने वाली कोशिकाओं को भी प्रभावित करता है. इसके अलावा कैंसर के इलाज में भी आंवला अर्क का इस्तेमाल किया जाता है |.

एसिडिटी में लाभ 

आंवले (Indian gooseberry) के 10 ग्राम बीजों को रात भर जल में भिगोकर रखें। अगले दिन गाय के दूध में बीजों को पीस लें । इसे 250 मिली गाय के दूध के साथ सेवन करें । इससे एसिडिटी में लाभ होता है ।

या फिर आंवले का पाउडर , चीनी के साथ मिलाकर खाने या पानी में डालकर पीने से एसिडिटी से राहत मिलती है। इसके अलावा आंवले का जूस पीने से पेट की सारी समस्याओं से निजात मि‍लती है।

डायबिटीज  में राहत

डायबिटीज के मरीजों के लिए आंवला बहुत काम की चीज है । पीड़ि‍त व्यक्ति अगर आंवले के रस का प्रतिदिन शहद के साथ सेवन करे तो बीमारी से राहत मिलती है। 

पथरी की समस्या में कारगर

पथरी की समस्या में भी आंवला का उपयोग  कारगर साबित होता है । पथरी होने पर 40 दिन तक आंवले को सुखाकर उसका पाउडर बना लें, और उस पाउडर को प्रतिदिन मूली के रस में मिलाकर खाएं । इस प्रयोग से कुछ ही दिनों में पथरी गल जाने सम्भावना बन जाती है…

खून की कमी की समस्या से निजात

 रक्त में हीमोग्लोबिन की कमी होने पर, प्रतिदिन आंवले के रस का सेवन करना काफी लाभप्रद होता है। यह शरीर में लाल रक्त कोशिकाओं के निर्माण में सहायक होता है, और खून की कमी नहीं होने देता।

मोतियाबिंद की समस्या दूर करती है

आंखों के लिए आंवला अमृत समान है, |  यह आंखों की रौशनी को बढ़ाने में सहायक होता है। इसके लिए रोजाना एक चम्मच आंवला के पाउडर को शहद के साथ लेने से मोतियाबिंद में भी  लाभहोता  है |

गर्मी से राहत

शरीर में गर्मी बढ़ जाने पर आंवला सबसे बेहतर उपाय है। आंवले के रस का सेवन या आंवले को किसी भी रूप में खाने पर यह ठंडक प्रदान करता है।

हिचकी तथा उल्टी होने पर भी  आंवले के रस को मिश्री के साथ दिन में दो-तीन बार सेवन करने से काफी राहत मिलती है .|

चेहरे पर चमक आती है

 चेहरे के दाग-धब्बे हटाकर उसे खूबसूरत बनाने के लिए भी आंवला उपयोगी होता है । इसका पेस्ट बनाकर चेहरे पर लगाने से त्वचा साफ, चमकदार होती है और झुर्रियां भी कम हो जाती हैं ।

बालों के लिए फायदेमंद

 बालों को काला,  घना और चमकदार बनाने के लिए आंवले का प्रयोग होता है,  इसके पाउडर से बाल धोने या फिर इसका सेवन करने से बालों की समस्याओं से निजात मिलती है ।

इस तरह हम पाते है की आंवला हमारे लिए बहुत ही उपयोगी है  |

इसके  अलावा भी अपने स्वास्थ को बेहतर रखने के लिए निम्न बातों का भी ध्यान रखना चाहिए…

  • आमाशय घायल होता है जब आप प्रातः काल अल्पाहार नही करते हैं।
  • किडनी घायल होती है जब आप 24 घण्टे में 10 गिलास पानी नही पीते ।
  • पित्ताशय घायल होता है जब आप रात्रि 11 बजे तक सोते नही है और सूर्योदय से पूर्व जागते नही हैं।
  • छोटी आंत घायल होती है जब आप ठंडा और बासी भोजन करते हैं।
  • बड़ी आंत घायल होती है जब आप बहुत तला भुना और मसालेदार भोजन करते हैं।
  • फेफड़े घायल होते हैं जब आप सिगरेट, और धुयें  आदि से प्रदूषित वातावरण में सांस लेते हैं।
  • लिवर घायल होता है जब आप बहुत मात्रा में जंक, फ़ास्ट फ़ूड खाते हैं।
  • हृदय घायल होता है जब आप अपने भोजन में अधिक नमक और घी तेल खाते हैं।
  • अग्नाशय घायल होता है जब आप मीठी चीजे ज्यादा  मात्रा में खाते हैं क्योंकि  वो स्वादिष्ट और सहज उपलब्ध हैं।
  • -आंखे घायल होती हैं जब आप कम प्रकाश में मोबाईल और कम्प्यूटर स्क्रीन पर काम करते हैं।
  • मस्तिष्क घायल होता है जब आप नकारात्मक सोचने लगते हैं।
  • आत्मा घायल होती है जब आप नैतिकता के विरुद्ध कार्य करते हैं।

यह ध्यान रहे कि आप के पास यह सभी अंग अमूल्य है क्योंकि यह सभी अंग बाजार में उपलब्ध नही  हैं । इसे अच्छी तरह से देखभाल कर अपने शरीर  को स्वस्थ रखें  ।

“खुशियों से अनबन “ब्लॉग  हेतु नीचे link पर click करे..

https://wp.me/pbyD2R-aX

BE HAPPY….BE ACTIVE….BE FOCUSED….BE ALIVE…

If you enjoyed this post, please like, follow, share and comments

Please follow the blog on social media …link are on contact us page..

www.retiredkalam.com



Categories: health

5 replies

  1. इतना समझदारी कहाँ से आ गया, विजय? RAC मे तो सिर्फ ध्रूवा से आने जाने मे ही समय बीत जाता था।लगता है,कोई समझदार व्यक्ति से सम्पर्क हो गया हैं,RAC छोड़ने के बाद !!! “Keep it up” 👍👍👍

    Liked by 1 person

    • हहाहाहा…
      धुर्वा में रहते ज़रूर थे , लेकिन धुर्वा नहीं थे… और तुम्हारे संपर्क में भी थे…
      Thank you dear , Stay connected and stay happy..

      Like

Leave a Reply to अनिता शर्मा Cancel reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: