हँसना क्यों ज़रूरी है ??

कुछ दिनों पूर्व मुझे दिल्ली जाने का सौभाग्य प्राप्त हुआ | वैसे भी pandemic के कारण  काफी दिनों से डर डर  कर जी रहे थे | अब जब वैक्सीन मार्किट में आ गया है तो मुझे  भी हिम्मत हुई और मैंने कोलकाता से दिल्ली जाने का कार्यक्रम बना डाला |

दिल्ली जाने के क्रम में बहुत सारे नए अनुभव हुआ | घर से निकल कर टैक्सी में बैठा ही था  तो पत्नी ने तुरंत याद दिलाया …., हाथ sanitize कर ले, चेहरे पर मास्क पहन लें वर्ना फाइन कर दिया जायेगा |

खैर, जब एअरपोर्ट पहुँचा तो वहाँ भी बहुत सारे नए नियमों से सामना हुआ |

एअरपोर्ट के अन्दर जाने के लिए गेट पर टिकट दिखाया तो पहले मेरा thermal checking किया गया | फिर अन्दर जाने  दिया गया | जो विदेश की यात्रा पर जा रहे थे उनका  covid test भी  किया जा रहा था |

गेट से अन्दर घुसते ही देखा जगह जगह पर sanitizer स्टैंड रखा गया था  | जहाँ भी जाएँ पहले अपने हाथ को sanitize कर लें |

सिक्यूरिटी चेक में खड़ा होने के लिए सोशल distancing का पालन करना था | वैसे बोर्डिंग (Boarding)  हेतु जहाज में पहुँचा तो लोग वहाँ सोशल distancing की धज्जियाँ उड़ा रहे थे, सभी लोग भीड़ का हिस्सा बन गए थे | हालाँकि बोर्डिंग के पहले मास्क और बॉडी किट दिया गया .. जिसे पहन कर ऐसा लगा कि हम astronaut बन गए है |

जहाज में  बैठने  पर नए नए नियम की घोषणा की जा रही थी | मैं बैठा तो अपने सीट पर था,  लेकिन बगल वाले से डर रहा था,  उसे गलती से छीक आती तो हम उसके लिए दुआ करते  कि वह medically फिट हो , वर्ना अपना भी covid पक्का |

खैर किसी तरह दिल्ली एअरपोर्ट पहुँच गया और अपना astronaut वाला चोला वही dustbin में फेंक दिया और फिर मेट्रो से सफ़र करने का मौका भी मिला .. . वहाँ भी social distancing का खास ध्यान रखा जा रहा था | सभी लोग मास्क पहने और एक एक सीट के gap पर बैठने का निर्देश का पालन कर रहे थे |

किसी तरह नए नियमों का पालन करते हुए घर पहुँच गया | वहाँ पहुँचते ही सीधे  wash room में जाना पड़ा और नहाने धोने के बाद ही घर में घुमने की आज़ादी मिली |

रात तो ठीक से बीत गयी और सुबह मुझे मॉर्निंग वॉक के  लिए जाना था | मुझे बताया गया कि घर के पास ही एक पार्क है /

 सुबह के करीब 6.00 बज रहे थे और मैं उस पार्क में था |

 यह पार्क तो कम जिम (GYM) ज्यादा लग रहा था | एक्सरसाइज करने के बहुत सारे उपकरण लगे हुए थे | और बहुत से लोग तरह तरह के एक्सरसाइज कर रहे थे. …एक तरह से ओपन जिम (Gym) ही था यह |

फिर मेरे बेटे ने बताया कि यह सोसाइटी रिटायर्ड मिलिट्री वालों का है इसलिए यहाँ सीनियर सिटीजन मिलिट्री लोग ज्यादा आते है |

मैं भी वहाँ थोड़ी देर उन उपकरणों की  मदद से exercise किया |

फिर तेज़ – तेज़ क़दमों से टहलते हुए उस पार्क का एक चक्कर लगाने ही वाला था कि पार्क के पिछले भाग में  कुछ  लोगों को जोर जोर से हँसते  हुए देखा | ये लोग हमारी तरह बुज़ुर्ग थे / करीब 12 लोगों एक यह एक ग्रुप था जो जोर जोर से हँस  रहे थे, उनकी हँसी देख कर यह पता चल रहा था कि यह सब लोग हँसने का प्रयास कर रहे है/

यानी यहाँ लाफ्टर थेरापी (Laughter Therapy) चल रही थी  |

मुझे यह नजारा बहुत अच्छा लगा | मुझे पता है कि स्वास्थ्य के लिहाज से हँसना  बेहद जरूरी है. और हँसने  के लिए किसी वजह की जरूरत नहीं होती. | जब आप खुश होते हैं, तो टेंशन फ्री होते हैं और उस समय आपके चेहरे पर मुस्कान होती है |

 हल्की सी मुस्कराहट किसी की खूबसूरती में चार चाँद  लगा देती है. इसलिए हँसना हर लिहाज से जरूरी और फायदेमंद है |

लोग ठीक कहते है कि लॉफ्टर इज द बेस्ट मेडिसिन’, | मुझे उन लोगों का इस तरह अपने स्वस्थ के प्रति जागरूक होना अच्छा लगा और फिर मैं भी वहाँ खड़ा होकर उनलोगों के लाफ्टर exercise को देखने लगा |

तभी उन्लोगोने ने मुझे भी शामिल होने के लिए आमंत्रित किया जिसे मैंने  सहर्ष स्वीकार कर लिया |

मैं भी उनलोगों के साथ हँसने की practice करने लगा , लेकिन उनके जैसा जोर जोर से बिना बात के ठहाके नहीं लगा पा रहा था |

लेकिन उनलोगों को बेवजह की जोर जोर से हँसी देख कर मैं भी लाफ्टर थेरापी करने लगा |

थोड़े समय के बाद  गुप्ता जी के साथ ही वही पार्क में बने चबूतरे पर बैठ कर मैं योगा करने लगा | गुप्ता जी,  भी हमारे साथ बैठ कर योगा करने लगे |

बातों बातों  में लाफ्टर के बारे में चर्चा चली तो उन्होंने कहा .. इसके फायदे बहुत है ..शायद इतना की आप इसका अनुमान भी नहीं लगा सकते |

मैं उत्सुकता वश उनके  पास ही बैठ गया और वो इस बारे में बिस्तार से चर्चा करने लगे ……

उन्होंने  कहा. .laughing is the best medicine …

यह तो आज तक आपने केवल सुना होगा… लेकिन, हम आपको उन फायदों के बारे में बताएंगे जिसकी वजह से यह लाइन बिल्कुल सटीक बैठती है.

तो आइए हँसने के फायदे के बारे जानें और खुल कर हँसने और लोगों को भी हँसाने के लिए प्रेरित करें,,,

  • हँसने से हमारा ब्लड सर्कुलेशन ठीक रहता है. ब्लड सर्कुलेशन ठीक रहने से हम कई बीमारियों से बचे रह सकते हैं |
  • हँसने से हमारा इम्यून सिस्टम मजबूत होता है | इम्यून सिस्टम (रोग-प्रतिरोधी क्षमता) मजबूत होगा तो हम कम बीमार पड़ेंगे | मेडिकल साइंस के मुताबिक हँसने के दौरान हमारे शरीर में एंटी वायरल कोशिकाएं तेजी से बनती है और हमारा इम्युनिटी सिस्टम मजबूत होता है |
  • कई लोग बॉडी पेन (मांसपेशियों में दर्द) की समस्या से परेशान रहते हैं | हँसने से दर्द में राहत मिलती है | रोगियों को असहनीय दर्द से राहत दिलाने के लिए डॉक्टर लॉफिंग थेरेपी का इस्तेमाल करते हैं | मेडिकल एक्सपेरीमेंट्स में पाया गया है कि 10 मिनट तक हँसने से वही आराम मिलता है जो दो घंटे की गहरी नींद लेने से मिलता है |
  • कई बार हमारे विचार निगेटिव हो जाते हैं. अगर कोई बार-बार निगेटिव विचार मन में आ रहा है तो उसका  डिप्रेशन में जाने की बहुत ज्यादा संभावना रहती है |  
    हँसने से हम डि-स्ट्रेस (De-stress) होते हैं और शरीर में पॉजिटिव एनर्जी का संचार होता है | हँसने के दौरान हमारे शरीर में इंडोर्फिन हार्मोन बनता है, जिससे हम अपने को सकारात्मक महसूस करने लगते हैं |
  • हँसने के दौरान हमारी सांसें गहरी हो जाती है | सांस लेने और छोड़ने की अवधि बढ़ जाती है… इसकी वजह से हमारे शरीर को ज्यादा मात्रा में ऑक्सीजन की सप्लाई होती है जिससे हमारे अन्दर ताजगी महसूस होती है |
  • हँसने का असर हमारी उम्र पर भी दिखाई देता है | हँसना  एक तरह की स्ट्रेचिंग एक्सरसाइज जैसा है. हँसने से हमारी मांसपेशियों की एक्सरसाइज होती है और एंटी-एजिंग में मदद मिलती है |
  • हँसने के दौरान कैलरी बर्न होता है जिससे मोटापा में कमी आती है | एक शोध के मुताबिक 15 मिनट तक हँसने से हम 10-40 कैलरी तक बर्न कर सकते हैं |.

इतना सब सुन कर मुझे लगा कि जब पाँच मिनट की हंसी से हमारा मूड ही change नहीं होता, बल्कि हमारे पुरे शरीर का एक्सरसाइज हो जाता है |

हम अपने अन्दर एक सकारात्मक विचारों की अनुभूति करते है और सब कुछ खुशनुमा नज़र आता है | और सबसे बड़ी बात की इसकी कुछ कीमत भी चुकानी नहीं पड़ती है |

तो क्यों नहीं 24 घंटें में कम से कम एक बार हँसने के मौके ढूंढें और अगर नहीं मिले तो नकली हँसी ही सही…. हँसना ज़रूरी है …अपने लिए और अपनों के लिए…

आप सभी को भी महसूस हो रहा होगा कि ज़िन्दगी में …हँसना क्यों ज़रूरी है ??....

तनाव से मुक्ति” पढने हेतु नीचे link पर click करे..

तनाव से मुक्ति

BE HAPPY….BE ACTIVE….BE FOCUSED….BE ALIVE…

If you enjoyed this post, please like, follow, share and comments

Please follow the blog on social media …link are on contact us page..

www.retiredkalam.com



Categories: मेरे संस्मरण

11 replies

  1. Laughing is good exercise. Presentation is beautiful.

    Liked by 2 people

  2. “Astronaut ban gaya”… ye wala acha tha… hahaha… Yes, laughter is the best medicine… Keep laughing and stay helathy… good post… enjoyed reading it… 🙂

    Liked by 2 people

  3. Nice and interesting blog…felt connected as I have had similar experiences while travelling during covid times and I also go for morning walk in a nearby park and exercise on the various equipment’s installed at the open air Gym in the park.

    Liked by 2 people

  4. Very positive!Sunday, 2nd May is the World Laughter Day, 2021.

    Liked by 1 person

  5. आप भी शायद हमारी बातों से सहमत है /
    बहुत बहुत धन्यवाद …

    Liked by 2 people

Trackbacks

  1. हँसना क्यों ज़रूरी है ?? – keshumali's Blog

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: