सेल्फी की बातें

मैं ओर  मेरी मोबाइल अक्सर आपस में बातें करते है,…. तू जब मेरे पास नहीं होती है तो लगता है जैसे जीवन रुक सा गया है | मैं तुमसे बहुत प्यार करने लगा हूँ |

तुम मुझे अपडेट रखने में बहुत मदद करती हो  | तू तो चलती फिरती  मेरी जिन्न है..जो हमेशा पूछती रहती हो…. क्या हुक्म है मेरे आका ?

सच, तुम्हारे बिना तो आज के जीवन की परिकल्पना ही बेकार है | लोग कहते है कि मोबाइल बहुत ही बुरी चीज़ है | यह लोगों का सुख चैन छीन लिया है |

इसके बहुत सारे अवगुण गिनाने लगते है, … यहाँ तक कि मानसिक बीमारी का कारण भी बताने लगे है | परन्तु जो भी हो मैं इस गजेट से कुछ अच्छी बाते सीखी भी है |

 जी हाँ, इस मोबाइल से मैंने ज़िन्दगी के चार मूल मंत्र सीखे है |  सुबह उठते ही मोबाइल को चार्ज करना नहीं भूलते |  सुबह सबसे पहले इसे फुल चार्ज करने का ख्याल आता है और  इतना ही नहीं घर से बाहर निकलते से पहले खाना खाया या नहीं बाद में ख्याल आता है, पहले मेरा mobile charge है या नहीं इसका  ख्याल आता है |  यात्रा के दौरान यह डिस्चार्ज ना हो इसके लिए पॉवर बैंक साथ में रखते है |

पहला सबक यह मेरी मोबाइल सिखाती है कि इसी तरह ज़िन्दगी में सफलता पाने के लिए अपने को पूरी तरह चार्ज रखने की ज़रुरत है ताकि किसी काम को बेहतर तरीके से किया जा सके | हम अपने को दो तरह से charge रख सकते है ..external source की मदद से या Internal charger से |

जैसे हम सुबह – सुबह  रोज़ motivational video सुन कर …,प्रवचन सुन कर …,अच्छी पुस्तके पढ़ कर और  आस पास के अच्छी माहौल से भी अपने को charged महसूस करते है |

और  इसके अलावा अपने अंदर  internal charger भी डेवेलोप कर सकते है ….जैसे मोबाइल के लिए पॉवर बैंक का इस्तेमाल करते है उसी तरह meditation और  योगा के साथ साथ सकारात्मक सोच के द्वारा Internal charger बना लेते है |

हर किसी के ज़िन्दगी में एक purpose या goal  set होता है, जिसे हासिल करने के लिए एक उत्साह और  जोश ज़रूरी है | इससे हम ज़िन्दगी के हर क्षेत्र में better perform कर सकते है |

https://online.anyflip.com/qqiml/lwbx/

दूसरा सबक, ….हमें याद है कि जब मैं कुछ दिनों पूर्व अपना नया मोबाइल खरीद रहा था तो सबसे पहले उसके कैमरा का performance रिव्यु किया था .ताकि मस्त सेल्फी ली जा सके | लोग कहते है कि knowledge का  ज़माना है परन्तु हमें लगता है कि अभी सेल्फी का ज़माना आ गया है |, सेल्फी का चलन तेज़ी से बढ़ा है , सेल्फी से भी एक सीख मिलती है |

जिस तरह सेल्फी से present moment को जीते है और  एक आनंद का एहसास होता है उसी तरह हम अपने अन्दर भी एक  सेल्फ moment इजाद कर सकते है |

जी हाँ, यह सेल्फी हमें ..अपने भुत काल की गुजरे पल और आने वाली  भविष्य की चिंता को छोड़ कर अपने को वर्तमान moment, में जीना सिखाती है | इससे अपने performance को बेहतर कर सकते है |

यह सच है कि हमारे अंदर बहुत सारे विचार एक साथ चलते रहते है, लेकिन past या future में भटकती मन को वापस खीच कर present moment में लाना ही सेल्फ को evolve करना है,… अपने को empowerment करना है | अपने ज़िन्दगी में सफल होने के लिए self को evolve करना ज़रूरी है |

तीसरा सबक…., मोबाइल को कभी कभी Airplane mode में रखने की मज़बूरी होती है , जब हम प्लेन में सफ़र करते है , ताकि सभी तरह के नेटवर्क से कुछ समय के लिए disconnect कर दिया जाए | ताकि जहाज़ smooth उडान भर सके बिना किसी signal hindrance के |

उसी तरह ज़िन्दगी में भी कुछ पल ऐसे बिताने चाहिए , वो पल में पूर्ण  रूप से अपने को सभी लोगों से disconnect कर लेते है और  विचार शुन्य स्थिति में चले जाते है | इस तरह कुछ देर की practice के बाद हम रिफ्रेश महसूस करते है |

ज़िन्दगी को बेहतर ढंग से जीने और  Higher  goal को achieve करने के लिए थोड़े समय के अंतराल पर अपने को airplane mode पर रखने की आवश्कता है |

दिन में, हफ्ते में, या महीने में कुछ पल निकालने चाहिए जब हम कुछ समय के लिए अपने सभी नेटवर्क से disconnect हो जाए |

जिस तरह से  प्लेन उपर जाने के लिए मोबाइल को airplane mode  का संकेत देती है, ज़िन्दगी में भी सफलताओं की उचाईयों को छूने के लिए बीच – बीच में खुद को airport mode में रखना ज़रूरी है | left alone,,,, complete silence observe करना चाहिए ..|

चौथा सबक,… मोबाइल के स्क्रीन को scratch से protect करने के लिए  screen  guard लगाते है, उसी तरह खुद को बाहरी परिस्थिति  से डिस्टर्ब ना हो उसके लिए भी दिमाग में एक scratch Guard लगाना ज़रूरी है |

आज कल तो मोबाइल में gorilla glass इनबिल्ट आता है | हमें भी, लोग क्या कहेंगे …जैसी बातों की परवाह करना छोड़ना होगा |

अपने दिमाग को एकाग्र रखने के लिए gorilla गिलास वाला सुरक्षा कवच बनाना होगा ताकि मेरे जीवन में कोई दूसरा व्यक्ति scratch ना डाल सके …..यानि कोई कुछ भी बोले मुझे फर्क नहीं पढ़ना चाहिए | मुझे तो बस अपने goal पर focused रहना है |

हमारा स्क्रीन गार्ड.. हमारा ऐसा दोस्त, ऐसा पार्टनर, हमारे बड़े बुजुर्ग या हमारे गुरु ,कोई भी हो सकते है , जो हमारे  ज़िन्दगी को empower करे और  external disturbance  से हमें सुरक्षा प्रदान करे /

इन चार बातों को मोबाइल से जोड़ कर सोंचे तो हम life को highly protected  कर सकते है और  तब हमें सफल होने से कोई रोक नहीं सकता है ओर  ज़िन्दगी को full-on एन्जॉय कर सकते है…

अपनों में ही खुद को तलाशती जिदंगी..

इस शहर से उस शहर, इस डगर से उस डगर

थक जाता हूँ मैं, मगर थकती नहीं है जिदंगी।

कल भी आज भी, आज भी कल भी

वही थी जिदंगी, ..वही है जिदंगी…

रात क्या, दिन क्या, सुबह क्या, शाम क्या

सवाल थी जिदंगी, ..सवाल है जिदंगी…

BE HAPPY… BE ACTIVE … BE FOCUSED ….. BE ALIVE,,

If you enjoyed this post don’t forget to like, follow, share and comments.

Please follow me on social media..

Instagram LinkedIn Facebook



Categories: infotainment, motivational

9 replies

  1. Very nice

    Liked by 1 person

  2. V nice sir ji
    Gd morning have a nice day sir ji

    Like

  3. thank you dear..stay home…stay safe…

    Like

  4. No doubt, you take good selfie

    Liked by 1 person

  5. thank you sir… now, I can take good selfie. .

    Like

  6. Reblogged this on Retiredकलम and commented:

    रेगिस्तान भी हरे हो जाते है , जब
    अपने साथ अपने खड़े हो जाते है ..

    Like

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: