जनता कर्फ्यू

source:Google.com

जब मैं 60 साल  की उम्र पार किया और जॉब से रिटायर हुआ था तो मुझे  लगने लगा था कि अब ज़िन्दगी खत्म सी हो गयी है / ज़िंदा तो है पर ज़िन्दगी नही है,/  ऐसा महसूस होता था जैसे  हमारी अहमियत कम हो गई है /

आज थोडा अलग तरह का प्रतीत होता लग रहा है, क्यों कि आज ही सबह सुबह एक शुभ चिन्तक का  फ़ोन आया और वो दस हिदायतें देने लगा कि COVID-19 से बच के रहें, बहुत ही deadly है और सबसे बड़ी बात है कि 60 साल  के ऊपर वाले ही ज्यादा रिस्क पर है / फिर क्या, आज मुझे अचानक ज़िन्दगी से प्यार हो गया और जितने भी इससे जुडी जानकारी है उसे पढने में लगा हूँ .. मैंने आज पढ़ा ..

source: Google.com

हम सब एक भयानक दौड से गुजर रहे है / इस COVID -19 से हमारे जीवन में भूचाल आ गया है…  हर दिन इसके चपेट में आने वालों की संख्या बढती जा रही हैं / सभी लोग घबराये नज़र आ रहे है, समझ में नहीं आ रहा कि क्या करें और क्या नहीं / ..क्योंको कोई मरना नहीं चाहता है / सभी के चेहरे पर एक डर का भाव नज़र आ रहा है ,.और वो एक कहावत कि …

जो डर गया समझो मर गया, आज यह कहावत बेमानी लगती है और सच तो यह है कि जो डर गया, वही  समझो बच गया / अगर हमें COVID -19 के खिलाफ युद्ध लड़ना है तो हमें इससे डरना होगा और जो लोग डर के कारण दिशा- निर्देशों का पालन करेंगे वह सचमुच सुरक्षित रहेंगे और साथ साथ दूसरों को भी सुरक्षित रख सकेंगे /

हालाँकि अभी भी समाज के कुछ सिरफिरे लोग ऐसे है जिन्हें इससे डर नहीं लगता और पार्टी कर रहे थे और अभी पता चला है कि वो लोग खतरे में आ गए है, जी हाँ,  मैं बात कर रहा हूँ कनिका कपूर की … .”kanika Kapoor tests positive for COVID-19 in Lucknow…All those present at these parties are likely to be screened, her apartment complex in lucknow is under  lockdown and all the residents and domestic help are being tasted… ..

source:Google.com

अब हमें सरकार और डॉक्टर द्वारा दिए गए निर्देशों का पालन करना है और आज रविवार को मैं “जनता कर्फ्यू” का पालन कर रहा हूँ  और आप सभी से अनुरोध है कि आप सभी घर पर रहे, स्वस्थ रहे, खुश रहे और सुरक्षित रहे / कही नहीं जाए, फ़ोन पर एक दुसरे के कांटेक्ट में रहे / कोरोना को हराना है, सुरक्षित रह कर भारत को बचाना है /

Social Distancing

जब से कोरोना वायरस का प्रकोप फैला है, सभी ओर  से यही सुनने में आ रहा है कि बाजार बंद कर दिए हैं, मंदिर में पट बंद हैं, शादी पार्टी पर रोक लगा दी गई है, लोगों से कहा जा रहा है कि जरूरी होने पर ही घर से बाहर निकलें, दफ्तर बंद कर दिए गए हैं और कर्मचारियों को घर से ही काम करने के लिए कहा जा रहा है, स्कूल-कॉलेज तो बंद ही हैं। कोरोना वायरस पीड़ित तमाम देशों के बाद अब भारत में भी यही हो रहा है। इसे सोशल डिस्टेंसिंग नाम दिया गया है, जिसकी दुनियाभर में चर्चा है।

एम्स के डॉ. अजय मोहन के अनुसार, कोरोना वायरस के सम्पर्क में आने से खुद को बचाना ही इस संक्रमण की रोकथाम का सबसे अच्छा तरीका है। सोशल डिस्टेंसिंग इसका सबसे अच्छा तरीका है। आसान शब्दों में कहें तो खुद को समाज से दूर कर लेना। अमेरिका में राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प और उनके प्रशासन ने इसके लिए 15 दिन का समय तय किया है। यानी लोगों से कहा जा रहा है कि वे 15 दिन के लिए खुद को घरों में कैद कर लें। हालांकि, वहां के सर्जन जर्नल जेरोम एडम्स का कहना है कि यह बीमारी जिस हद तक फैल चुकी है, 15 दिन की सोशल डिस्टेंसिंग पर्याप्त नहीं होगी। एनबीसी को दिए एक इंटरव्यू में उन्होंने कहा कि 15 दिन इस बीमारी से पीछा छुड़ाने के लिए काफी नहीं होंगे, लेकिन अभी हमें इस दिशा में ही आगे बढ़ना होगा। बता दें, अमेरिकी के सभी 50 राज्यों में कोरोना वायरस फैल चुका है और अब तक 200 से ज्यादा लोगों की मौत हो चुकी है।

कई महीने तक करना पड़ सकता है ऐसा…

वहीं इम्पीरियल कॉलेज लंदन के ताजा अध्ययन के अनुसार, हो सकता है कि आने वाले दिनों में पूरी दुनिया को कुछ महीनों तक सोशल डिस्टेंसिंग अपनाना पड़े। हावर्ड यूनिवर्सिटी में इन्फेक्शियस डिजिज मॉडलिंग की एक्सपर्ट मार्क लिपिस्टेक के अनुसार, अभी तो यही सबसे अच्छा उपाय है। चीन ने वुहान में इसी तर्ज पर सब बंद करके हालात काबू पाए हैं। इटली की सड़कें इसी कारण सूनी पड़ी हैं। फ्रांस में हजारों पुलिसकर्मी सड़कों पर उतारे हैं, ताकि लोगों को बाहर निकालने से रोका जा सके।

source:google.com

ऐसे अपना सकते हैं सोशल डिस्टेंसिंग…

सोशल डिस्टेंसिंग के दौरान घर में रहें। बच्चों को स्कूल-कॉलेज न भेजें। भीड़ भरे स्थानों पर जाने से बचें। शादी और पार्टी का आयोजन न करें, ना ही इनका हिस्सा बनें। पब्लिक ट्रांसपोर्ट का इस्तेमाल करने से बचें। उन देशों की यात्रा बिल्कुल न करें, जहां कोरोना वायरस फैल चुका है। भारत के लगभग सभी राज्य प्रशासन द्वारा इस तरह के आदेश जारी किए जा चुके हैं। लोगों को एक स्थान पर जुटने से रोकने के लिए धारा 144 लागू कर दी गई हैं।

सोशल डिस्टेंसिंग के दौरान क्या करें…

सोशल डिस्टेंसिंग के दौरान अपने ऑफिस या घर का जरूरी काम तो करें, लेकिन अपनी सेहत पर पूरा ध्यान रखें। कोरोना वायरस से बचने के जरूरी नियमों का पालन करें जैसे अपनी और घर की साफ-सफाई का पूरा ख्याल रखें, समय-समय पर हाथ धोते रहें, सेनिटाइजर का इस्तेमाल करें, बाहर का खाना न खाएं, योग और प्राणायाम करते रहें, पर्याप्त मात्रा में आराम करें।

और अब अंत में यही कहना चाहता हूँ कि…

हम भारतीयों को अपने परिवार, अपने रिश्तेदार, अपने बच्चे, अपने करीबी दोस्तों, अपने समाज को बचाने के लिए अपना कर्त्तव्य, अपना फ़र्ज़ निभाना होगा और आज हमें उन लोगो का धन्यवाद् यापन करना है जो बिना अपनी जान की परवाह किए, लोगो की जान बचाने में महीनो से जुटे है, तालियाँ बजा कर , शंख बजा कर घंटियाँ बजा कर ….इस तरह उनका मनोबल बढ़ा सकते है /

आज हमें एक भारतीय जवान की तरह अपनी लड़ाई कोरोना virus से करने का मौका मिला है.. आइये साथ मिल कर इस पर जीत की  गारंटी सुनिश्चित करें …

BE HAPPY… BE ACTIVE … BE FOCUSED ….. BE ALIVE,,

If you enjoyed this post don’t forget to like, follow, share and comments.

Please follow me on social media..

Instagram LinkedIn Facebook

4 thoughts on “जनता कर्फ्यू

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s